हनुमान जयंती का एक विशेष महत्व होता है। हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से हनुमान जयंती भी एक त्योहार जैसी ही है। हनुमान जयंती चैत्र मास की पूर्णिमा तिथि को मनाते हैं और धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, हनुमान जी का जन्म हुआ था। जबकि देश के कुछ हिस्सों में इसे कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष के 14वें दिन मनाया जाता है। इस साल हनुमान जयंती 27 अप्रैल 2021 को मनाई जाएगी।


जयंती के दिन विधि-विधान से हनुमान जी की पूजा-अर्चना के साथ ही व्रत रखा जाता हैं। बताया जाता है कि हनुमान जयंती का व्रत रखने से सभी तरह के कष्टों से मुक्ति मिलती है और मनोकामना पूरी होती है। संकटों से मुक्ति दिलाने वाले संकटमोचन हनुमान है। मंगलवार के दिन हनुमान जयंती पड़ने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है। क्योंकि मंगलवार  हनुमान जी को समर्पित होता है।

पूर्णिमा तिथि 26 अप्रैल को दोपहर 12 बजकर 45 मिनट से शुरू होगी, जो कि 27 अप्रैल की सुबह 09 बजकर 5 मिनट तक रहेगी। जानकारी के लिए बता दें कि हनुमान जयंती की पूर्व रात्रि जमीन पर सोना चाहिए और राम और माता सीता के साथ हनुमान जी का ध्यान लगाना चाहिए। मंत्रोच्चारण करते हुए हनुमान जी का ध्यान लगाएं। मान्यता है कि चोला चढ़ाना, सुगन्धित तेल और सिंदूर चढ़ाने से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं।