ऐसा कोई दुनिया में इंसान नहीं है जिसको सपने नहीं आते होंगे। सपना बहुत ही खूबसूरत होती है और बहुत बुरा भी होता है लेकिन क्या आपने कभी सोचा है आखिर Dreams हमें क्यों आते है और कैसे आते हैं। बता दें कि ये एक तरह के विज्ञान की समझ है और कुदरत का एक करिश्मा हम इसे कह सकते हैं।  
सपनों के बारे में हम वैज्ञानिक एवं ज्योतिषी दोनों की ही मानते हैं। हर सपना अपने आप में कुछ कहता है। जब हम नींद में होते हैं तो जो घटनाएँ हमें फिल्म की तरह दिखाई देती हैं। जिनकों हम Dreams का नाम देते हैं। सपनों में जीना हर किसी को अच्छा लगता है और उनको पूरा करने के लिए दौड़ में शामिल हो जाते हैं।
कैसे आते हैं सपने जानिए Science

साइंस कहता है कि सपने का अर्थ हमारे अवचेतन मस्तिष्क की कल्पना है। यह हमारे मन की वह अतृप्त इच्छाएं हैं जो पूरी नहीं हो सकी है। सपने हमारे अवचेतन मन में अपनी जगह बना लेते हैं जब हम नींद में होते हैं तब बाहरी मस्तिष्क सुसुप्त अवस्था में आ जाता है और दूसरी ओर अवचेतन मस्तिष्क दिन भर की गणना में व्यस्त होता है। जो कि सपने द्वारा हमें बीती हुईं घटनाओं और आने वाली घटनाओं का लेखा जोखा देते हैं।
Dream का अर्थ समझना

कुछ सपने हमें याद रहते हैं कुछ सपनों को हम भूल जाते हैं।सबसे पहले तो हमें इस बात का ध्यान रखना है कि, हमने सपना क्या देखा था? अपने सपने का अर्थ सबसे बेहतर हम ही समझ सकते हैं। उस सपने को देखने के बाद हमारी मनोदशा क्या थी इस पर भी सपने का अर्थ निर्भर करता है।