रक्षाबंधन के त्योहार के सिर्फ कुछ घंटे ही बीच में है। 22 अगस्त, रविवार यानी कल भाई-बहन का पावन त्योहार रक्षाबंधन है। यह त्योहार हर साल सावन माह की पूर्णिमा पर मनाया जाता है। बहनें अपने भाइयों को रक्षा सूत्र यानी राखी बांधती हैं और अच्छे स्वास्थ्य, लंबी उम्र की कामना करती है। ज्योतिष के मुताबिक इस साल रक्षाबंधन के दिन भद्रा का साया भी नहीं रहेगा।

भद्रा का साया नहीं होने के बाद भी बहनें अपने भाइयों को सूर्योदय के बाद कभी भी राखी बांध सकती हैं। रक्षाबंधन के पावन दिन भाइयों को राखी बांधने से पहले भगवान को राखी अर्पित करनी चाहिए। सबसे पहले देवताओं को राखी बांधे और भोग लगाएं फिर भाई को राखी बांधें।


हिंदू धर्म में भगवान गणेश प्रथम पूजनीय देव हैं। रक्षाबंधन के दिन सबसे पहले भगवान गणेश को राखी बांधें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान गणेश को लाल रंग की राखी अर्पित करें। सबसे पहले गणेश जी को राखि बांधे फिर अपने भाई के लिए अच्छी कामना करें। इसके बाद श्री कृष्ण को राखि बांधे।