पौष का महीना (Paush Purnima) आज खत्म हो गया है और साथ ही खरमास का महीना भी खत्म होने वाला है। आज पूर्णिमा हैं और आज के दिन किए गए कुछ उपाय बहुत ही ज्यादा कारगर साबित होते हैं। आज के दिन किए गए उपाय सफल भी होते हैं। अगर आप पैसों (money) की तंगी से परेशान हो तो जरूरत आपको ये आसान सा उपाय करने की।

पूर्णिमा (Purnima) नहाने के पानी में गंगा जल मिलाकर भी स्नान करें शुभ होगा। पूजा पाठ करें और दान भी करें। मान्यता है कि पूर्णिमा के दिन दान करने से धन धान्य में कमी नहीं आती है। इसी के साथ पैसों की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए माता लक्ष्मी (Goddess Lakshmi) को खीर का भोग लगाना चाहिए। साथ ही श्री अष्टलक्ष्मी स्त्रोतम का पाठ भी करेंगे तो परिणाम जल्दी आएगा।

श्री अष्टलक्ष्मी स्त्रोतम (Shree Ashtalakshmi Strotam):
    धान्य लक्ष्मी:

अयिकलि कल्मष नाशिनि कामिनि वैदिक रूपिणि वेदमये ।
क्षीर समुद्भव मङ्गल रुपिणि मन्त्रनिवासिनि मन्त्रनुते ।

मङ्गलदायिनि अम्बुजवासिनि देवगणाश्रित पादयुते ।

जय जय हे मधुसूदनकामिनि धान्यलक्ष्मि परिपालय माम् ।
    धन लक्ष्मी:

धिमिधिमि धिन्धिमि धिन्धिमि-दिन्धिमी दुन्धुभि नाद सुपूर्णमये ।

घुमघुम घुङ्घुम घुङ्घुम घुङ्घुम शङ्ख निनाद सुवाद्यनुते ।
वेद पुराणेतिहास सुपूजित वैदिक मार्ग प्रदर्शयुते ।

जय जय हे कामिनि धनलक्ष्मी रूपेण पालय माम् ।

अष्टलक्ष्मी नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणि ।

विष्णुवक्षःस्थलारूढे भक्तमोक्षप्रदायिनी ।।

शङ्ख चक्र गदाहस्ते विश्वरूपिणिते जयः ।

जगन्मात्रे च मोहिन्यै मङ्गलम शुभ मङ्गलम ।
    धैर्य लक्ष्मी:

जयवरवर्षिणि वैष्णवि भार्गवि मन्त्र स्वरुपिणि मन्त्रमये ।

सुरगण पूजित शीघ्र फलप्रद ज्ञान विकासिनि शास्त्रनुते ।

भवभयहारिणि पापविमोचनि साधु जनाश्रित पादयुते ।

जय जय हे मधुसूदन कामिनि धैर्यलक्ष्मि सदापालय माम् ।