गरुड़ पुराण (Garuda Purana) में जीवन के बारे में कई बाते बताई गई है। इसे सनातन धर्म (Sanatan Dharma) का महापुराण कहा जाता है। इसमें भगवान विष्णु (Lord Vishnu) ने ज्ञान दिया है। बता दें कि गरुड़ पुराण के अधिष्ठातृ देव भगवान विष्णु हैं।

गरुड़ पुराण (Garuda Purana) में बताई बातों का पालन करके व्यक्ति अपने जीवन को बेहतर बना सकता है। गरुड़ पुराण (Garuda Purana) में स्वर्ग, नर्क और पितृलोक के अलावा आत्मा के दूसरे शरीर धारण करने की प्रक्रिया को बताया गया है। इस ग्रंथ में इंसान को कई ऐसे कार्यों को करने से मना किया गया है, जिन्हें करने से लोक ही नहीं बल्कि परलोक भी बिगड़ जाते हैं।

इन कार्यों से करें परहेज

जो व्यवहार आप अपने लिए नहीं चाहते, वह दूसरों के साथ भी नहीं करना चाहिए। अगर आप आज किसी का अपमान करें तो भविष्य (Future) में अपने लिए भी बड़ी समस्या खड़ी पाएंगे। इसलिए सबका सम्मान कीजिए और सबके साथ अच्छी वाणी बोलिए।
महिला (Woman) को पति से दूरी

महिला हो या पुरुष, किसी को भी लंबे वक्त तक अपने जीवनसाथी (partner) से दूर नहीं रहना चाहिए। इससे परिवार में कलह बढ़ती है और शादीशुदा जीवन बिखरने लगता है। बेहतर तरीका ये है कि पति-पत्नी दोनों आपसी भरोसे के साथ इसका हल निकालें, जिससे परिवार सुखमय बन सके।
मान-सम्मान (respect)

इंसान को अपना मान-सम्मान को हमेशा सर्वोच्चता देनी चाहिए। उसे लंबे वक्त तक अपने मित्र या परिचितों के घर में नहीं रहना चाहिए। ऐसा करने से उस परिचित के परिवार वालों को दिक्कत होती है। साथ ही आपसी संबंध भी बिगड़ने लगते हैं।