आज से गुप्त नवरात्रि (Gupt Navratri 2022) शुरू हो चुके हैं। यह नवरात्रि खासतौर से तांत्रिक विद्याओं के लिए खास किया जाता है। गुप्त नवरात्रि को विशेष सिद्धियां प्राप्त करने वाली नवरात्रि माना जाता है और इसकी पूजा भी गुप्त रूप से ही की जाती है। पूजा के मंत्र, पाठ और मनोकामना को भी गुप्त रूप से माता के समक्ष रखा जाता है। गुप्त नवरात्रि में माता के नौ रूपों की नहीं, बल्कि दस महाविद्याओं की पूजा होती है।

उपाय-

धन प्राप्ति के लिए-
-नवरात्रि पर मातारानी के एक मंत्र का जाप करें।-मंत्र है – ॐ ह्रीं ह्रीं ह्रीं महा मातंगी प्रचिती दायिनी, लक्ष्मी दायिनी नमो नमः-जाप कम से कम एक माला से लेकर अपनी श्रद्धानुसार मालाओं त​क किया जा सकता है।-भोजपत्र पर केसर की स्याही से दुर्गा अष्टोत्तर शतनाम लिखें, फिर उन नामों का उच्चारण करते हुए आहुति दें।-हवन के बाद भोजपत्र चांदी में जड़वाकर ताबीज की तरह बनवा लें।-इसे या तो पहन लें, या फिर तिजोरी में रख दें।-इस उपाय के परिणाम जल्दी ही सामने आएंगे और धन आगमन के रास्ते खुलने लगेंगे।

कर्ज मुक्ति के लिए-
-नवरात्रि में आम की समिधा यानी लकड़ी से नौ दिनों तक हवन करें।-गाय के घी में कमलगट्टे को डुबोकर दुर्गासप्तशती का पाठ करते हुए आहुति दें।-आखिरी दिन नौ कन्याओं को प्रसाद के तौर पर मखाने की खीर खिलाएं।-उन्हें दक्षिणा दें और पैर छूकर आशीर्वाद लें।-अगर आपने इस काम को सफलतापूर्वक निपटा लिया तो आपको इसका काफी अच्छा फायदा मिलेगा।