वैशाख मास की पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा के नाम से जानते हैं। बौद्ध धर्म के अनुसार, वैशाख मास की पूर्णिमा को गौतम बुद्ध के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार, इस तिथि को महात्मा बुद्ध का जन्म हुआ था। इस साल बुद्ध पूर्णिमा 16 मई 2022, सोमवार को है। बुद्ध पूर्णिमा का दिन बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए सबसे बड़ा उत्सव होता है। 

यह भी पढ़े : Chandra grahan 2022: बुद्ध पूर्णिमा के दिन लगेगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, इन तीन राशियों के खुलेंगे भाग्य


हिंदू धर्म के अनुसार, गौतम बुद्ध भगवान विष्णु के नौवें अवतार माने जाते हैं। इस दिन भगवान बुद्ध के अलावा भगवान विष्णु और भगवान चंद्रदेव की पूजा की जाती है। इस दिन को हिंदू और बौद्ध दोनों धर्म के लोग इस दिन को धूमधाम के मानते हैं।

बुद्ध पूर्णिमा 2022 डेट-

साल 2022 में 16 मई, सोमवार को वैशाख माह की पूर्णिमा है। इस दिन भगवान बुद्ध का जन्म धूमधाम के साथ मनाया जाता है। बुद्ध पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त 15 मई को दोपहर बजकर 45 मिनट से शुरू होकर 16 मई को 09 बजकर 45 मिनट तक रहेगा।

यह भी पढ़े : इन राशियों पर नहीं होता शनि की साढ़ेसाती या ढैया कोई प्रभाव, इन पर मेहरबान रहते हैं Shani Dev


बुद्ध पूर्णिमा पूजा विधि-

पूर्णिमा तिथि पर पवित्र नदियों में स्नान का विशेष महत्व माना गया है। बुद्ध पूर्णिमा के सुबह स्नान के बाद सूर्यदेव को अर्घ्य दें और बहते पानी में तिल प्रवाहित करें। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस दिन पीपल के वृक्ष को जल अर्पित करना चाहिए। इस दिन दान-दक्षिणा का विशेष महत्व है।

बुद्ध पूर्णिमा व्रत के फायदे-

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, चंद्रदर्शन किए बिना व्रत पूरा नहीं होता। इसलिए इस दिन चंद्रदेव के दर्शन जरूरी होते हैं। बुद्ध पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और चंद्रदेव की उपासना करने से आर्थिक तंगी दूर होती है। इस दिन दान करने से पुण्य फलों की प्राप्ति होती है।