हाल ही में गंगा दशहरा मनाया गया है। दशहरा के दिन मां गंगा का धरती पर अवतरण हुआ। बताया जाता है कि इस दिन पतित पावनी मां गंगा के स्मरण मात्र से ही मनुष्य के सभी पापों का अंत हो जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन स्नान दान का विशेष महत्व है। इस दिन मां गंगा में स्नान करना अत्यंात पुण्येकारी होता है। कहा जाता है कि इस दिन रामेश्वरम में भगवान श्रीराम ने शिवलिंग की स्थापना की थी।


बता दें कि गंगा स्ना न करने न जा पाएं तो घर में पानी में गंगाजल डालकर स्ना न करें। सूर्यदेव को अर्घ्य दें। मां गंगा का स्मेरण करें। गंगा मैया की आराधना करें। इस दिन पितरों की आत्मा शांति के लिए कामना करें। गंगा दशहरा के दिन पानी से भरे मिट्टी के मटके का दान करें। इस दिन जिस भी चीज का दान करते हैं वो संख्या में 10 होनी चाहिए। मान्यता है कि गंगा दशहरा के दिन अनार का पेड़ लगाने से आर्थिक तंगी दूर होती है।

इसे घर के अंदर ना लगाएं। इस दिन शर्बत, पानी और मौसमी फल का दान करें। इस दिन घर में गंगाजल अवश्य छिड़कें। ऐसा करने से घर से नकारात्मकता दूर होती है। मान्यता है कि इस दिन गंगाजल के स्पर्श मात्र से ही अशुभ प्रभाव दूर हो जाते हैं।