हिंदू धर्म में गरुड़ पुराण (Garud Puran) की बहुत विशेषता है. गरुड़ पुराण महापुराण (Mahapuran) है. इसे मृत्यु के बाद सद्गति प्रदान करने वाला ग्रंथ माना जाता है. इसलिए ही सनातन धर्म (Snatan Dharma) में मृत्यु के बाद गरुड़ पुराण के श्रवण का प्रावधान है. अठारह पुराण (Eighteen Puran) में से गरुड़ पुराण का अपना अलग महत्व है. इसमें विष्णु भक्ति का विस्तार से वर्णन किया गया है. गरुड़ पुराण में हमारे जीवन से लेकर कई महत्वपूर्ण बातों पर प्रकाश डाला गया है, जिनके बारे में व्यक्ति को जानना जरूरी है. गरुड़ पुराण में ऐसे 5 चीजों के बारे में बताया गया है, जिनका पालन करने से व्यक्ति का जीवन खुशहाल रहेगा और जीवन में कभी भी दुख नहीं आएगा. 

कुलदेवता की पूजा

मान्यता के अनुसार हर कुल के एक आराध्य देवी-देवता होते हैं, जिनकी पूजा कुछ विशेष तिथियों में जरूर की जाती है. आज भी कई लोग जिन्हें अपने कुल देवी-देवताओं के बारे में पता तक नहीं है. गरुड़ पुराण के अनुसार कुल देवताओं के प्रसन्न होने से आपकी 7 पीढ़ियां खुशहाल जीवन व्यतीत कर सकती हैं. इसलिए कुल देवी-देवताओं की पूजा करना जरूरी होता है. 

भगवान को भोग लगाना

कहते हैं कि जिस घर में भोजन को बिना चखे भोग लगाया जाता है उस घर में कभी भी अन्न और धन की कमी नहीं होती. इसलिए इस बात का ध्यान हमेशा रखें कि किचन में कभी भी जूठा खाना न रखें. इससे अन्नपूर्णा और मां लक्ष्मी की कृपा आप पर हमेशा बनी रहेगी. 

ग्रंथ पाठ

गरुड़ पुराण के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति को धार्मिक ग्रंथों में छिपे हुए ज्ञान को समझना चाहिए और दूसरों को भी समझाना चाहिए. आपको धर्म-कर्म का ज्ञान होना भी जरूरी है. इसलिए समय रहते ग्रंथों का पाठ अवश्य करें. 

अन्न दान करना

हिंदू धर्म में दान का बहुत महत्व है. कहते हैं कि भूखों को भोजन कराने और जरूरमंदों की मदद करने से आपको पुण्य की प्राप्ति होती है. इसलिए अपने सामर्थ्य के अनुसार जरूर दान करें. इससे न सिर्फ आपकी पीढ़ि का उद्दार होगा, बल्कि आपकी सात पीढ़ियों का कल्याण होगा. 

चिंतन

कहते हैं कि तप, त्याग और चिंतन आदि करने से मन शांत रहता है और क्रोध दूर हो जाता है. इससे घर में सुख-शांति बनी रहती है और घर-परिवार के सदस्यों का कल्याण होता है.