उज्जैन। वैश्विक महामारी कोरोना प्रतिबंध हटाने के बाद मध्य प्रदेश में उज्जैन के विश्व प्रसिद्ध भगवान महाकालेश्वर (Mahakaleshwar) में मंदिर प्रबंध समिति ने भस्मार्ती में सीमित संख्या में लोगों के शामिल होने के लिए शनिवार को अनुमति दी। 

देश के बारह ज्योतिर्लिगों में प्रमुख एवं प्रसिद्ध भगवान महाकालेश्वर देश का एकमात्र ऐसा मंदिर जहां प्रतिदिन तड़के भस्मार्ती होती है इसमें रोजाना देश-विदेश के सैकडो की संख्या में लोग शामिल होते है लेकिन कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए राज्य सरकार ने इसकी गाईड लाइन जारी करने एवं रात्रि कर्फ्यू लगाने के कारण भस्मर्ती में श्रद्धालुओं के शामिल होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। 

महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति की जारी विज्ञप्ति में बताया कि मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं द्वारा लगातार किये जा रहे अनुरोध के कारण प्रशासन द्वारा सुरक्षा एवं विस्तारीकरण की प्रक्रिया के चलते सीमित संख्या में श्रद्धालुओं के लिए भस्म-आरती अनुमति प्रदान करने का निर्णय लिया गया है। मंदिर में स्थित भस्म आरती कॉउंटर से 100 श्रद्धालु लाइन में लगकर प्रात: 10.00 बजे नि:शुल्क अनुमति प्राप्त कर संकेंगे। 

इसके अलावा पहले की तरह बची जगह एवं मंदिर के पुजारी-पुरोहित, प्रोटोकाल अन्तर्गत 200 रुपये की दान राशि प्रति व्यक्ति जमा कर अनुमति प्राप्त कर सकेंगे। मंदिर में सुरक्षा के कारण वर्तमान में केवल ऑफलाइन अनुमति दी जाएगी और बाद में सम्पूर्ण सुरक्षा अनुरूप सामान्य ऑनलाइन अनुमति बनाई जा सकेगी।