वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग मिलने की पुष्टि ने हर तरफ भक्तिरस बिखेर दिया है। तीसरे दिन का सर्वे पूरा होने और कोर्ट का आदेश सामने आने के बाद प्रतिक्रियाओं का दौर शुरू हो गया है। कोर्ट ने आदेश दिया है कि शिवलिंग वाले स्थान को सुरक्षित कर दिया जाए और वहाँ किसी को जाने की अनुमति न हो। खास बात यह है कि आज ही के दिन मोदी जी पहली बार वाराणसी से सांसद चुने गए थे और आज ही के दिन भगवान विश्वनाथ ने कुएँ से बाहर निकलकर दर्शन दिए, यह बहुत बड़ा संयोग है।

यह भी पढ़े : Vaishno Devi bus attack : वैष्णो देवी बस हमले के बाद अमरनाथ यात्रा को लेकर हाई अलर्ट, शाह कर सकते हैं बैठक


योगी सरकार में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने सोशल मीडिया के माध्यम से कहा है, "बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर ज्ञानवापी में बाबा महादेव के प्रकटीकरण ने देश की सनातन हिंदू परंपरा को एक पौराणिक संदेश दिया है।" इस बीच, स्वदेसी माइक्रोब्लॉगिंग मंच, कू पर भी #gyanvapisurvey और #ज्ञानवापी_मंदिर ट्रेंड करने लगा है। 

यह भी पढ़े : समर वेकेशन्स : कम बजट में बनाइए इन जगहों पर घूमने का प्लान, देखिए खूबसूरत डेस्टिनेशन


इसी बीच कई कू यूज़र्स ने बाबा की भक्तिरस में डूबे हुए अपने भाव व्यक्त किए हैं। पॉलिटिकल एनालिस्ट और कंसल्टेंट, अतुल मलिकराम कू करते हुए कहता हैं:

यह भी पढ़े : चार धाम यात्रा में उमड़ रही भक्तों की भीड़, केवल पंजीकृत श्रद्धालुओं को ही अनुमति, जानिए कैसे कराएं रजिस्ट्रेशन


ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे आज पूरा हो चुका है और वकील के मुताबिक कुएं के अंदर शिवलिंग मिला है, अब सब की निगाहें मंगलवार को होने वाली सुनवाई पर टिकी है. हालांकि कुछ जानकार इसे अयोध्या 2.0 बता रहे हैं, और पूरे मामले को सरकारी तंत्र की साजिस का हिस्सा मानते हैं. #gyanvapievidence

वहीं पीआर प्रोफेशनल, नेहा गौर कू करते हुए कहती हैं:

ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने के नीचे मिला शिवलिंग

याचिकाकर्ताओं ने सिविल कोर्ट में साक्ष्य की सुरक्षा के लिए की अपील, याचिकाओं में मस्जिद को जिला प्रशासन द्वारा अपनी सुरक्षा में लेने की अपील की है।

अपडेट : कोर्ट ने शिवलिंग प्राप्त हुए स्थान को तत्काल प्रभाव से सील करने का आदेश दिया। साथ ही आदेश में सील किये गए स्थान पर किसी भी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित किया।

#gyanvapisurvey #ज्ञानवापी_मंदिर

Koo App
ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने के नीचे मिला शिवलिंग      याचिकाकर्ताओं ने सिविल कोर्ट में साक्ष्य की सुरक्षा के लिए की अपील, याचिकाओं में मस्जिद को जिला प्रशासन द्वारा अपनी सुरक्षा में लेने की अपील की है।      अपडेट : कोर्ट ने शिवलिंग प्राप्त हुए स्थान को तत्काल प्रभाव से सील करने का आदेश दिया। साथ ही आदेश में सील किये गए स्थान पर किसी भी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित किया।       #gyanvapisurvey   #ज्ञानवापी_मंदिर
 
- Neha Gour (@gourneha2021) 16 May 2022

इसी के साथ कू की अन्य यूज़र सुरभि चौरसिया ने भोलेबाबा और मोदी रस में बहकर कहा है:

तीन दिनों के सर्वे के बाद वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग मिलने की पुष्टि ने धार्मिक लोगों में भक्तिरस घोल दिया है। बुद्ध पूर्णिमा के पावन अवसर पर भोलेबाबा का इस तरह प्रकट होना देश की सनातन हिंदू परंपरा को एक पौराणिक संदेश देता है। आज ही के दिन मोदी जी पहली बार वाराणसी से सांसद चुने गए थे और आज ही के दिन भगवान विश्वनाथ का कुएँ से बाहर निकलकर दर्शन देना एक बहुत बड़ा संयोग है।

#gyanvapisurvey #ज्ञानवापी_मंदिर

Koo App
तीन दिनों के सर्वे के बाद वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग मिलने की पुष्टि ने धार्मिक लोगों में भक्तिरस घोल दिया है। बुद्ध पूर्णिमा के पावन अवसर पर भोलेबाबा का इस तरह प्रकट होना देश की सनातन हिंदू परंपरा को एक पौराणिक संदेश देता है। आज ही के दिन मोदी जी पहली बार वाराणसी से सांसद चुने गए थे और आज ही के दिन भगवान विश्वनाथ का कुएँ से बाहर निकलकर दर्शन देना एक बहुत बड़ा संयोग है।   #gyanvapisurvey #ज्ञानवापी_मंदिर
 
- Surbhi Chourasiya (@surbhi_chourasiya12I0J3) 16 May 2022

सामाजिक कार्यकर्ता, अभिराम मिश्रा कू करते हुए कहते हैं:

हिंदू और #हिंदुत्व  के खिलाफ वामपंथी इतिहासकारों ने शतरंज की ऐसी बिसात बिछाई थी।

जिसे तोड़ पाना साधारण मनुष्य की बात नहीं थी।

उन्होंने हर इतिहास को इस तरह तोड़ मरोड़ के लिखा कि हिंदू हिंदू का दुश्मन हो गया, 

मनुस्मृति के सच्चाईयों को छुपा अंग्रेजों द्वारा उसके गलत व्याख्या को आम जनता में प्रसारित कर जातिवाद की राजनीति में हजारों नरसंहार और जख्म दिया।

आज जब इतिहास के पर्दे उठ रहे हैं तो कांग्रेसी चिंतन शिविर में है,

वामपंथी और जिहादी अस्तित्वविहीन हो देश के लिए खतरा पैदा कर रहे हैं

दिया #GYANVAPISURVEY

Koo App
हिंदू और #हिंदुत्व  के खिलाफ वामपंथी इतिहासकारों ने शतरंज की ऐसी बिसात बिछाई थी।      जिसे तोड़ पाना साधारण मनुष्य की बात नहीं थी।   उन्होंने हर इतिहास को इस तरह तोड़ मरोड़ के लिखा कि हिंदू हिंदू का दुश्मन हो गया,       मनुस्मृति के सच्चाईयों को छुपा अंग्रेजों द्वारा उसके गलत व्याख्या को आम जनता में प्रसारित कर जातिवाद की राजनीति में हजारों नरसंहार और जख्म दिया।      आज जब इतिहास के पर्दे उठ रहे हैं तो कांग्रेसी चिंतन शिविर में है,      वामपंथी और जिहादी अस्तित्वविहीन हो देश के लिए खतरा पैदा कर रहे हैं   दिया #GYANVAPISURVEY - Abhiram mishra (@abhiram052) 16 May 2022

अन्य यूज़र रोहित ढोलिया कहते हैं:

पत्थर उठा कर बोलना शंकर हैं, 

#gyanvapisurvey @abhiram052 @shubham_bharti02

मार्केटिंग कंसल्टेंट पावन त्रिपाठी कू करते हुए कहते हैं:

Koo App
तीन दिनों के सर्वे के बाद वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग मिलने की पुष्टि ने धार्मिक लोगों में भक्तिरस घोल दिया है। बुद्ध पूर्णिमा के पावन अवसर पर भोलेबाबा का इस तरह प्रकट होना देश की सनातन हिंदू परंपरा को एक पौराणिक संदेश देता है। आज ही के दिन मोदी जी पहली बार वाराणसी से सांसद चुने गए थे और आज ही के दिन भगवान विश्वनाथ का कुएँ से बाहर निकलकर दर्शन देना एक बहुत बड़ा संयोग है।   #gyanvapisurvey #ज्ञानवापी_मंदिर - Pawan Tripathi (@pawantripathiofficial) 16 May 2022

मुद्दा क्या है?

ज्ञानवापी विवाद को लेकर हिन्दू पक्ष का दावा है कि इसके नीचे 100 फीट ऊँचा आदि विश्वेश्वर का स्वयंभू ज्योतिर्लिंग है। काशी विश्वनाथ मंदिर का निर्माण करीब 2050 साल पहले महाराजा विक्रमादित्य ने करवाया था, लेकिन मुगल सम्राट औरंगजेब ने सन् 1664 में मंदिर को तुड़वा दिया। दावे में कहा गया है कि मस्जिद का निर्माण मंदिर को तोड़कर उसकी भूमि पर किया गया है, जो कि अब ज्ञानवापी मस्जिद के रूप में जाना जाता है।

अभी क्या स्थिति है? 

मौजूदा समय ज्ञानवापी मस्जिद में प्रशासन ने केवल कुछ ही लोगों को नमाज पढ़ने की अनुमति दे रखी है। ये वो लोग हैं, जो हमेशा से यहाँ नमाज पढ़ते आए हैं। इन लोगों के अलावा यहाँ किसी को भी नमाज पढ़ने की अनुमति नहीं है। वहीं, मस्जिद से सटे काशी विश्वनाथ मंदिर का जीर्णोद्धार हो चुका है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका शुभारंभ किया। मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं की भीड़ पहले के मुकाबले अब कहीं ज्यादा आने लगी है।  

कमेटी में कौन-कौन है और सर्वे में क्या-क्या हुआ? 

कमेटी में कोर्ट कमिश्नर एडवोकेट अजय कुमार मिश्र, विशाल कुमार सिंह, असिस्टेंट कमिश्नर अजय सिंह शामिल हैं। 

हिंदू और मुस्लिम पक्ष के पैरोकार भी इसमें शामिल हैं। 

इसके अलावा पुरातत्व विज्ञान के विशेषज्ञ इस सर्वे टीम में शामिल हैं। 

कमेटी ने सर्वे के दौरान पता लगाया कि क्या मौजूदा ढांचा किसी इमारत को तोड़कर या फिर इमारत में कुछ जोड़कर बनाया गया है? कमेटी ने इस बात का भी पता लगाया कि क्या विवादित स्थल पर मस्जिद के निर्माण से पहले वहां कोई हिंदू समुदाय से जुड़ा मंदिर कभी मौजूद था? 

कमेटी ने इस पूरे कार्य की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कराई।