इस बार वट सावित्री व्रत और सोमवती अमावस्या का खास संयोग बन रहा है। वट सावित्री व्रत पर जहां महिलाएं करवा चौथ की तरह पति की लंबी उम्र के लिए व्रत और पूजा करती हैं, वहीं सोमवती अमावस्या पर स्नान, दान, पितरों की पूजा और धन प्राप्ति के खास उपाय किए जाते हैं। इस बार वट सावित्री व्रत 30 मई को है। 

यह भी पढ़े : Horoscope 11 May 2022: आज इन राशि वालों की चमकेगी किस्मत, खुलेगा भाग्य का ताला 


वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि से अमावस्या तक उत्तर भारत में और ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष में इन्हीं तिथियों में वट सावित्री व्रत दक्षिण भारत में मनाया जाता है ।इस बार की सोमवती अमावस्या 2022 की आखिरी सोमवती अमावस्या है। इसके बाद सोमवती अमावस्या अगले साल होगी।

यह भी पढ़े : Chandra Grahan 2022: इन शुभ योगों में लगेगा साल का पहला चंद्रग्रहण, इन 3 राशि वालों को होगा महालाभ


वट सावित्री व्रत को उत्तर भारत के उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, दिल्ली और हरियाणा समेत कई जगहों पर मनाया जाता है। इस दिन सुहागिन महिलाए बरगद के पेड़ की पूजा करती है। ऐसी मान्यता है कि जितनी उम्र बरगद के पेड़ की होती है, सुहागिनें भी बरगद के पेड़ की उम्र के बराबर अपने पति की उम्र मांगती हैं। 

यह भी पढ़े : मेक इन इंडिया का दम, 180 Kmph की रफ्तार से दौड़ेगी देश की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन


हिंदू धर्म में बरगद का वृक्ष पूजनीय माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार, इस वृक्ष में सभी देवी-देवताओं का वास होता है। इस वृक्ष की पूजा करने से अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है।इसके अलावा इस दिन जल से वटवृक्ष को सींचकर उसके तने के चारों ओर कच्चा धागा लपेटकर तीन बार परिक्रमा करें।