आज सर्वप्रथम देवों के देव शिव-पार्वती पूत्र श्री गणेश जी का जन्मदिन है। आज के दिन गणेश जी का अवतरण हुआ था। जैसे कि हम जानते हैं कि गणेश जी को प्रथम देवता और विघ्नहर्ता भी कहा जाता है। गणेश जी इंसानों के सभी संकटों के हरने वाले देवता माने जाते हैं। आज गणेश चतुर्थी का पर्व है और आज के दिन विधि पूर्वक पूजा करने से गणेश जी अपने भक्तों को आशीर्वाद प्रदान करते हैं।


बता दें कि भादो मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि पर महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी का पर्व बहुत ही भव्य रूप से मनाया जाता है। जैसे बताया जाता है कि गणेश चतुर्थी की तिथि से ही गणेश उत्सव का आरंभ होता है। गणेश उत्सव पूरे 10 दिनों तक मनाया जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि बह्मवैवर्त पुराण में गणेश जी को भगवान श्रीकृष्ण का रूप बताया गया है।
शुभ मुहूर्त
पंचांग के अनुसार गुरुवार 9 सितंबर 2021 को चतुर्थी तिथि रात्रि 12 बजकर 18 मिनट से आरंभ होगी, जो 10 सितंबर 2021 की रात 9 बजकर 57 मिनट तक रहेगी। गणेश जी की मूर्ति स्थापना का मुहूर्त शुक्रवार सुबह सूर्योदय से पूरा दिन बना हुआ है।


गणपति बप्पा मोरया के जयघोष के साथ गणेश चतुर्थी आज है।
अगले वर्ष फिर आने की कामना के साथ 10 दिन बाद यानि अनंत चतुर्दशी पर गणेश विसर्जन करने की पंरपरा है।
गणेश चतुर्थी का पर्व तीन चरणों में मनाया जाता है,
पहला चरण में गणेश जी का आगमन होता है यानि गणेश जी को घर पर लाया जाता है।
दूसरा चरण भगवान गणेश जी की स्थापना की जाती है। गणेश जी की स्थापना विधि पूर्वक करनी चाहिए और दस दिनों तक विशेष पूजा-अर्चना करनी चाहिए।
तीसरे चरण में गणेश जी का विसर्जन किया जाता है।