छठ महापर्व (Chhath Puja) का आज समापन है। कल सूर्यास्त अर्घ्य दिया गया था और आज छठ समापन उदयगामी सूर्य को अर्घ्य देकर किया जाएगा। आज के दिन भक्त उगते सूर्य को अर्घ्य देकर छठ मैया को विदा करेंगे। छठ महापर्व नहाए-खाए से शुरू होकर खरना और फिर ढलते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद उगते सूर्य को अर्घ्य देने तक खत्म होता है।

बता दें कि आज बिहार के मायागंज के पीछे मुसहरी घाट में सूर्योदय (sunrise) का अर्घ श्रद्धालु भारी संख्या में शामिल हैं। छठ पर्व (Chhath Puja) को मुख्य रूप से बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है। यह 4 दिवसीय अनुष्ठान होता है। जिसमें सूर्यदेव के साथ छठ मइया की पूजा की जाती है।

छठी मैया (chhathee maiya) की पूजा बड़ी सावधानी पूर्वक की जाती है। प्रसाद के रूप में गुड़ और चावल से बनी खीर, गेंहू के आटे और गुड़ से बने ठेकुआ, पकवान, पूड़ी, फल, फूल, ईख आदि चढ़ायी जाती है।