आज का दिन महिलाओं के लिए बहुत ही खास है। आज के दिन महिलाएं श्रृंगार कर अपने पति और संतान के लिए व्रत करेंगी। आज संकष्टी चौथ (Sankashti Chauth) या तिलकुटा चौथ का व्रत है। जानकारी दे दें कि इसे तिल चतुर्थी (Til Chaturthi), तिलकूट चतुर्थी या वक्रतुंड चतुर्थी के नाम से भी जानी जाती हैं। जैसे कि हम जाते हैं कि संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान श्री गणेश (Lord Ganesha) की विधि-विधान के साथ पूजा की जाती है।


संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi time) का शुभ मुहूर्त-
संकष्टी चतुर्थी 21 जनवरी को सुबह 8 बजकर 52 मिनट तक तृतीया तिथि रहेगी।
इसके बाद चतुर्थी तिथि लग जाएगी।
राहुकाल 21 जनवरी को सुबह 10 बजकर 30 मिनट से दोपहर 12 बजे तक रहेगा।
इसलिए पूजन का शुभ मुहूर्त सुबह 09 बजकर 43 मिनट से सुबह 10 बजकर 30 मिनट तक रहेगा। चंद्रोदय टाइम (moonrise time)-दिल्ली में चंद्रोदय का समय रात 08 बजकर 3 मिनट है।
मुंबई में चंद्रदर्शन 8 बजकर 27 मिनट पर होंगे।
जयपुर में चंद्रदर्शन 9:36 am होंगे।
पूजन विधि-
- प्रातःकाल स्नान करके गणेश जी (Lord Ganesha) की पूजा का संकल्प लें।
- इस दिन फलाहार ही करना चाहिए।
- संध्याकाल में भगवान गणेश की कथा पढ़ें
- भगवान को तिल के लड्डू और पीले पुष्प अर्पित करें ।
- भगवान गणेश को दूर्वा भी अर्पित करनी चाहिए।
- चन्द्रमा को अर्घ्य दें ।