गणेश चतुर्थी 10 सितंबर को पड़ रही है। इस दिन विधि-विधान के साथ गणेश जी की पूजा की जाती है। गणेश जी का जन्मोंत्वस बड़े ही धूमधाम के साथ बनाया जाएगा। लेकिन कोरोना के चलते दिल्ली के लालबाग के राजा का दरबार नहीं सजेगा। दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में गणेश पूजा के लिए पंडाल लगाने वाली समितियों ने पंडाल न लगाने का फैसला लिया है। वैसे तो एक- दो जगहों पर पूजा का आयोजन होगा। लेकिन उसमें समिति के सदस्य ही हिस्सा ले सकेंगे।

कोरोना के कारण भगवान गणेश की मूर्ति तैयार करने वाले मूर्तिकारों का कारोबार भी प्रभावित है। मूर्तियों की बिक्री न होने से मूर्तिकार चिंतित है। पिछली बार कोरोना के कारण काम-धंधा न होने की वजह से इस बार छोटे आकार की मूर्तियां बिक्री की उम्मीद से तैयार की है। लेकिन उनके भी खरीदार दुकानों पर न के बराबर नजर आ रहे है। पूजा पंडाल लगाने की नहीं मिली अनुमति गणेश पूजा का आयोजन करने वाले लालबाग का राजा ट्रस्ट, पीतमपुरा के प्रधान नरेश गोयल ने बताया कि इस बार गणेश पूजा पंडाल लगाने की अनुमति नहीं मिली है।


सोशल मीडिया
उन्होंने बताया कि इस पूजा में केवल समिति सदस्य ही शामिल होंगे। लेकिन पूजा का प्रसारण सोशल मीडिया के अलग-अलग मंचों पर लाइव किया जाएगा। दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में पंजीकृत छोटे-बड़े 150 पंडाल लगते है। लेकिन कोरोना के चलते पंडाल नहीं लग रहे है।