रत्नों की दुनिया बहुत अलग होती है। हर एक रत्न अपनी एक ताकत होती है। लेकिन इनको धारण कौन, कैसे, कब और क्यों करता है इसके लिए अलग से नियम कानून है। रत्नशास्त्रों में इसके बारे में सारी जानकारी दी गई है। कुंडली में ग्रहों के अशुभ प्रभावों को कम करने और शुभ फलों की प्राप्ति के लिए ज्योतिष शास्त्र में रत्नों के बारे में बताया गया है। हर ग्रह के अनुसार रत्न बताए गए हैं।


यह भी पढ़ें- त्रिपुरा उपचुनाव पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी के साथ प्रतिनियुक्ति पर TMC की बैठक


रत्नों को धारण करने से व्यक्ति को धन लाभ, करियर, शिक्षा, व्यवसाय और वैवाहिक जीवन से जुड़ी समस्याओं से निपटने के लिए रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है। आइए जानते हैं बुध ग्रह से संबंधित रत्न के बारे में और उसे धारण करने की विधि।



 
मिथुन राशि के जातक धारण करें ये रत्न


ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मिथुन राशि के जातकों के लिए पन्ना रत्न बेहद शुभ माना गया है। ज्योतिषीय सलाह से  इस राशि के जातकों को हरे रंग का पन्ना धारण करना चाहिए। किसी भी जातक की कुंडली में अगर बुध ग्रह कमजोर होता है, तो उसे मजबूत करने और बुध की महादशा से मुक्ति के लिए इसे धारण करने की सलाह दी जाती है।


यह भी पढ़ें- मेघालय की MeghEA ने किया देश का नाम रोशन! जीता WSIS प्रोसेस फोरम 2022 का अवॉर्ड

पन्ना धारण करने से व्यक्ति के व्यापार में आ रही रुकावटें दूर होती हैं और साथ ही आमदनी के नए रास्ते खुलते हैं. इसके साथ ही आर्थिक स्थिति को भी मजबूत करने के लिए भी इसे धारण किया जाता है. पन्ना रत्न व्यक्ति को कर्ज से मुक्ति दिलाता है।


यूं धारण करें पन्ना


पन्ना रत्न बुध ग्रह से संबंधित है। इसे बुधवार के दिन धारण किया जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पन्ना रत्न अश्लेषा या ज्येष्ठ नक्षत्र में धारण करने से कई गुना लाभ की प्राप्ति होती है। पन्ना रत्न सोने, चांदी या फिर प्लैटिनम अंगूठी में जड़वाकर धारण किया जा सकता है। इसे धारण करने से पहले बुधवार के दिन गाय के कच्चे दूध और गंगाजल के मिश्रण से शुद्ध कर लें। इसके बाद पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुंह करके "ॐ बुं बुधाय नमः" मंत्र का 3 माला जाप करें। फिर अंगूठी को दाएं हाथ की कनिष्ठा अंगूली में धारण करें।