शनि देव अस्त हो चुके हैं और 24 फरवरी 2022 तक अस्त रहेंगे। इसी के साथ ही अब वो 33 दिन तक अस्त रहेंगे। आपको बता दें कि जब भी कोई भी ग्रह अस्त होता है तो बड़े बदलाव होते हैं। अस्त होने वाले ग्रह का प्रभाव व्यक्ति की कुंडली की स्थिति पर निर्भर होता है। ज्योतिष के अनुसार अस्त शनि से कन्या, तुला और धनु राशि के लोगों को ज्यादा संभलकर रहने की जरूरत है।

मेष-
शनि देव मेष राशि से 10वें घर में विराजमान हैं। इस राशि वालों के लिए 10वां घर कर्म स्थान है। शनि के अस्त होने से जिन लोगों के कार्य तेजी से हो रहे थे, उनकी गति कम होगी। राशि के लोगों को धैर्य रखना होगा और पूरी मेहनत व लगन के साथ कार्य करने होंगे। हालांकि परिवार से सहयोग और तरक्की के अवसर प्राप्त होंगे।

मिथुन-
शनि देव मिथुन राशि से आठवें घर में हैं। दोस्तों-रिश्तेदारों के साथ संबंध नहीं बिगाड़ें। विवादों में पड़ने से कार्यों में रुकावट आ सकती है। करियर की स्थिति अच्छी रहेगी।

कर्क-
शनिदेव इस राशि से सातवें घर में बैठे हुए हैं। सातवें घर में अस्त शनि साझेदारी के व्यापार को प्रभावित कर सकता है। व्यापार में मिल रहे लाभ में कमी आ सकती है।