मंगल गोचर 2022 : ज्योतिष शास्त्र में मंगल ग्रह को युद्ध का कारक माना गया है. मंगल का राशि परिवर्तन होने जा रहा है, जों देश-दुनिया से लेकर सभी राशियों को प्रभावित करेगा.

मंगल गोचर 2022 : मकर राशि में मंगल ग्रह का गोचर बहुत ही महत्वपूर्ण माना जा रहा है. ज्योतिष शास्त्र में मंगल को एक प्रमुख ग्रह माना गया है. जब मंगल एक राशि से दूसरी राशि में परिवर्तन करता है तो इसका प्रभाव देश-दुनिया पर तो पड़ता ही है, साथ ही साथ मेष से लेकर मीन राशि तक पर भी असर देखा जाता है.

मंगल राशि परिवर्तन 2022

पंचांग के अनुसार 26 फरवरी 2022, शनिवार को पराक्रम और शौर्य के ग्रह मंगल अपना राशि परिवर्तन करेंगे. इस दिन मंगल धनु राशि से मकर राशि में दोपहर 3 बजकर 15 मिनट पर गोचर करेंगे. मकर राशि में मंगल ग्रह 7 अप्रैल 2022 तक गोचर करेंगे.

यह भी पढ़े :  Phulera Dooj 2022: 04 मार्च को है फुलेरा दूज, इस दिन होती हैं रिकॉर्ड तोड़ शादियां, जानिए शुभ मुहूर्त, महत्व 


ज्योतिष शास्त्र में मंगल का युद्ध का कारक माना गया है. इसके साथ ही इसे भूमि पुत्र भी कहा गया है. मंगल एक क्रूर ग्रह है, जो अलग-अलग राशियों मे अलग-अलग शुभ-अशुभ फल प्रदान करता है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब भी युद्ध की स्थिति बनती है तो कहीं न कहीं मंगल की भूमिका बनती है. इसीलिए इसे युद्ध कारक माना गया है.

धनु राशि से निकल कर अब मंगल मकर राशि में प्रवेश करेंगे. मकर राशि का शनि की राशि माना गया है.शनि देव मकर राशि के स्वामी हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मकर राशि मंगल की उच्च राशि भी है. मंगल का मकर राशि में परिवर्तन विशेष माना जा रहा है. क्योंकि 27 और 28 फरवरी को मकर राशि में पंच ग्रही योग भी बन रहा है. यानि मकर राशि में एक साथ पांच ग्रहो की युति बनने जा रही है. 

यह भी पढ़े : राशिफल 25 फरवरी: इन 2 राशियों के लोग के लिए संकट का समय है , ये लोग नया कारोबार शुरू कर सकते हैं 


27 फरवरी 2022, रविवार को दोपहर करीब 2 बजकर 22 मिनट के करीब चंद्रमा के मकर राशि में प्रवेश करते ही पंच ग्रही योग का निर्माण होगा. इस दिन प्रात: 8 बजकर 15 मिनट तक एकादशी की तिथि रहेगी, इसके बाद द्वादशी की तिथि प्रारंभ होगी. इस दिन पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र रहेगा. जो प्रात: 8 बजकर 49 मिनट तक रहेगी. इसके बाद उत्तराषाढ़ा नक्षत्र प्रारंभ होगा. 28 फरवरी तक मकर राशि में शनि, मंगल,बुध, शुक्र और चंद्रमा की उपस्थिति देखने को मिलेगी.

मंगल का शांत रखने के लिए हनुमान जी की पूजा करना शुभ माना गया है. जिन लोगों की कुंडली में मंगल ग्रह अशुभ स्थिति में है, वे इस गोचर काल में तनाव, विवाद और तर्क-वितर्क करने की स्थिति से बचें. इसके साथ ही वाणी में मधुरता और स्वभाव में विनम्रता बनाएं रखें.