रक्षाबंधन का त्योहार 22 अगस्त को पड़ रहा है। इस बहने अपने भाई की लंबी उम्र की कामना करती है और भाई के हाथ में रक्षा सूत्र बांधती है। इसलिए ज्योतिष के मुताबिक शुभ मुहूर्त देखकर ही राखी बांधनी चाहिए। राहुकाल भी ऐसे समय है जब राखी नहीं बांधनी चाहिए और साथ ही भद्रा में तो राखी बांधी ही नहीं जाती है।


ज्योतिष के मुताबिक इस बार भद्रा सुबह ही समाप्त हो जाएगी और दिनभर आराम से राखी बांधी जा सकेंगी। रक्षा बंधन पर भद्रा प्रातः 6:15 बजे तक है। इसके अलावा राहुकाल शाम पांच बजकर 16 मिनट से 6 बजे तक इसलिए इस समय के बीच भी राखी नहीं बांधी जाएगी। इसके बाद शाम 6:00 बजे से और रात्रि 9:00 बजे तक राखी बांधी जा सकती है। राखी बांधने का मुहूर्त तो दिनभर है, लेकिन स्थिर लग्न में राखी बांधना और भी शुभ रहता है-

राखी बांधने के खास मुहूर्त
-प्रातः 6:15  बजे से 7:51  तक सिंह (स्थिर लग्न)
-मध्यान्ह 12:00 बजे से 2:45 तक वृश्चिक (स्थिर लग्न)
-शाम 6:31 बजे से 7:59 बजे तक कुंभ ( स्थिर लग्न)।