पौष के महीने और साल 2022 की पहली अमावस्या (Paush Amavasya) आज है। जैसे कि हम जानते हैं कि अमावस्या का बहुत अधिक महत्व होता है क्योंकि यह भगवान विष्णु (Lord Vishnu) को समर्पित होती है। साथ ही पितरों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण भी किया जाता है। अमावस्या तिथि पर पवित्र नदियों में स्नान का विशेष महत्व होता है।

ऐसे करें पूजा-

    सुबह जल्दी उठकर स्नान करें। इस दिन पवित्र नदी या सरवोर में स्नान करने का महत्व बहुत अधिक होता है। आप घर में ही नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर भी स्नान कर सकते हैं।
    स्नान करने के बाद घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
    सूर्य देव (Sun god) को अर्घ्य दें।
    अगर आप उपवास रख सकते हैं तो इस दिन उपवास भी रखें।
    इस दिन पितर संबंधित कार्य करने चाहिए।
    पितरों के निमित्त तर्पण और दान करें।
    इस पावन दिन भगवान का अधिक से अधिक ध्यान करें।
    इस पावन दिन भगवान विष्णु की पूजा का विशेष महत्व होता है।
    इस दिन विधि- विधान से भगवान शंकर की पूजा- अर्चना भी करें।
मुहूर्त-

    पौष, कृष्ण अमावस्या (Paush Amavasya) प्रारम्भ - 03:41 ए एम, जनवरी 02
    पौष, कृष्ण अमावस्या समाप्त - 12:02 ए एम, जनवरी 03