आज का दिन बहुत ही खास है। आज रविवार और ये दिन सूर्यदेव को समर्पित होता है साथ ही आज साल 2022 की पहली पौष अमावस्या (Paush Amavasya) है। मान्यता है कि यह अमावस्या बहुत ही ज्यादा पवित्र होती है। इसमें खास तौर से विष्णु जी की पूजा की जाती है और पितरों को याद किया जाता है। ज्योतिष के मुताबिक आज के दिन किए गए कुछ उपाय पितृदोष (Pitra Dosh) से मुक्ति दिलाते हैं। तो आइए और जानिए.....
पितृदोष से ​मुक्ति (paternalism)-

अमावस्या (Amavasya) के ​दिन एक लोटे में जल लें।
इसमें लाल फूल और काले तिल डालें।
इसके बाद अपने पितरों की शांति की प्रार्थना करते हुए सूर्य देव को जल अर्पित करें। इसके बाद पीपल (Peepal) को जल अर्पित करें।
पीपल के पेड़ पर सफेद रंग की मिठाई चढ़ाएं और 108 बार परिक्रमा करें।
किसी जरूरतमंद को तिल के लड्डू, तिल का तेल, आंवला, कंबल और वस्त्र दान करें।
पितरों की शांति के लिए गीता के सातवें अध्याय का पाठ करें।
इससे आपके पितर तृप्त होंगे और उनकी नाराजगी समाप्त हो जाएगी।