शिव जी की पूजा करते समय उनसे जुड़े मंत्रों का जाप जरूर किया जाता है। बिना मंत्र जाप किए शिव जी की पूजा अधूरी मानी जाती है। ॐ नमः शिवाय (Om Namah Shivaya) भगवान शिव (Lord shiva) का सबसे प्रसिद्ध मंत्र है और उनकी पूजा करते हुए इस मंत्र का जाप जरूर किया जाता है।

यह मंत्र बेहद ही असरदार माना जाता है और इस मंत्र का जाप करने से शिव जी हर कामना को पूरा कर देते हैं। शैव परंपरा के अनुसार, भगवान शिव सुप्रीम लॉर्ड हैं। जिसके पास ब्रह्मांड को बनाने, उसकी रक्षा करने और बदलने की शक्ति है।

‘ॐ नम: शिवाय’ का अर्थ है कि – आत्मा घृणा, तृष्णा, स्वार्थ, ईष्र्या, काम, क्रोध, लोभ, मोह और माया से रहित होकर प्रेम और आनंद से परिपूर्ण होकर भगवान से मिलना।

धन की प्राप्ति होती है। शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने के लिए । संतान प्राप्ति के लिए और इस मंत्र के जप से आपके सभी दुःख, सभी कष्ट समाप्त हो जाते हैं। और आप पर महाकाल की असीम कृपा बरसने लगती है।

ॐ नमः शिवाय मंत्र बोलने से पहले रखें इन बातों का खास ख्याल

इस मंत्र का जाप सुबह के समय करना सबसे उत्तम होता है। सुबह उठकर स्नान करें और उसके बाद पूजा घर में या मंदिर में जाकर इस मंत्र का जाप करें

मंत्र का जाप करते समय अपनी आंखों को बंद रखें और उसके बाद ही इस मंत्र का पढ़े

मंत्र पढ़ते समय केवल शिव भगवान का ही ध्यान करें। वहीं मंत्र पूरा पढ़ने के बाद शिव जी का नाम जरुर लें

ॐ नमः शिवाय मंत्र (Om Namah Shivaya) का जाप करने के लिए अगर आप माला का प्रयोग करते हैं। तो इस बात का ध्यान जरूर रखें कि माला केवल रुद्राक्ष की हो। क्योंकि शिव जी से जुड़े मंत्रों को केवल रुद्राक्ष की माला पर ही पढ़ा जाता है।

कब करना चाहिए जाप

इस मंत्र का जाप वैसे तो आप रोज कर सकते हैं। लेकिन शास्त्रों के अनुसार इस मंत्र का जाप सावन, माघ माह और भाद्रपद माह में करना बेहद ही उत्तम होता है। इस दौरान इस मंत्र का जाप करने से शिव जी जल्द ही प्रसन्न हो जाते हैं और हर कामना को पूरा कर देते हैं।