मासिक शिवरात्रि 29 अप्रैल 2022, शुक्रवार को मनाई जा रही है। हिंदू पंचांग के अनुसार, आज वैशाख मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, वैशाख कृष्ण चतुर्दशी का प्रारंभ 29 अप्रैल को देर रात 12 बजकर 26 मिनट पर हो चुका है, जिसका समापन 30 अप्रैल को देर रात 12 बजकर 57 मिनट पर होगा। उदयातिथि की मान्यतानुसार मासिक शिवरात्रि का व्रत 29 अप्रैल को रखा जाएगा। 

यह भी पढ़े : राशिफल 29 अप्रैल 2022: शनि आज से करेंगे कुंभ राशि में प्रवेश, आज इन लोगे को व्यापार में होगा लाभ ही लाभ 


मासिक शिवरात्रि पर बन रहे ये शुभ योग-

मासिक शिवरात्रि पर सर्वार्थ सिद्धि योग व अमृत सिद्धि योग का निर्माण हो रहा है। मान्यता है कि इन योग में किए गए कार्यों में सफलता हासिल होती है।

यह भी पढ़े : Shani Rashi Parivartan : आज शनिदेव अपनी स्वराशि में करेंगे गोचर, इन राशि वालों को मिलेगा शुभ समाचार, शुरू होंगे अच्छे दिन


मासिक शिवरात्रि महत्व-

मान्यता है कि इस पावन दिन भगवान शंकर व माता पार्वती की विधि- विधान से पूजा- अर्चना करने से सभी तरह के दुख- दर्द दूर हो जाते हैं। भगवान शंकर की कृपा से भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

मासिक शिवरात्रि शुभ मुहूर्त 2022-

वैशाख मास की शिवरात्रि पर पूरे दिन सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है। ऐसे में आप सुबह से लेकर रात तक भगवान शिव की पूजा कर सकते हैं। अमृत सिद्धि योग सुबह 05:42 बजे से लेकर शाम 06:43 बजे तक रहेगा। मासिक शिवरात्रि पर रात्रि प्रहर पूजा मुहूर्त 11 बजकर 57 मिनट से देर रात 12 बजकर 40 मिनट तक है।

मासिक शिवरात्रि पूजा- विधि

सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लें।

स्नान करने के बाद साफ- स्वच्छ वस्त्र पहन लें।

घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।

अगर संभव है तो व्रत करें।

भगवान भोलेनाथ का गंगा जल से अभिषेक करें।

भगवान भोलेनाथ को पुष्प अर्पित करें।

इस दिन भोलेनाथ के साथ ही माता पार्वती और भगवान गणेश की पूजा भी करें। किसी भी शुभ कार्य से पहले भगवान गणेश की पूजा की जाती है। 

भगवान शिव को भोग लगाएं। इस बात का ध्यान रखें भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है।

भगवान शिव की आरती करें। 

इस दिन भगवान का अधिक से अधिक ध्यान करें।