देवताओं के सेनापति मंगल अपनी शत्रु राशि तुला को छोड़ अपनी राशि वृश्चिक में 5 दिसंबर, 2021 को प्रवेश करेंगे और 16 जनवरी 2022 को अपने परम मित्र देवगुरु वृहस्पति की राशि धनु में प्रवेश करेंगे। सूर्य, मंगल, बुध और केतु की युति कई तरह के संकट खड़ा करेगी। लेकिन शनि की घातक दृष्टि से मंगल मुक्त होंगे, जिससे अच्छी सूचनाएं भी मिल सकती हैं। 

मंगल से रूचक पंचमहापुरुष राजयोग बनता है । मंगल का यह परिवर्तन मिथुन, कन्या व मकर राशि वालों को बहुत लाभ प्रदान करेगा। अग्नि तत्त्व होने से मंगल प्राणियों को जीवनशक्ति प्रदान करते हैं। मंगल के गोचर में खराब फल देने पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग के दर्शन जरूर करने चाहिए। आइए जानते हैं मंगल के राशि परिवर्तन के प्रभाव को

मेष : दुर्घटना की आशंका। बुखार तंग करेगा। फिजूल के कार्यो में धन का नाश। उग्र वाणी से कार्यालय और घर में तनाव।

वृष : स्त्रियों, साझेदारों से कलह-क्लेश। आंखों व पेट में तकलीफ संभव। उग्र वाणी से ऑफिस व रिश्तेदारी में तनाव।

मिथुन : शत्रुओं का नाश होगा। वाद-विवाद में जीत संभव। प्रयासों में सफलता। रिश्तेदारों से अच्छे सम्बंध। धन मिलेगा।

कर्क : संतान की परेशानियों से तनाव। नौकरी छूटने का भय। मित्रों-बंधुओं से उग्र व्यवहार के कारण परेशानी।

सिंह : अनावश्यक भय रहेगा। वाहन सुख में कमी। नौकरी छूटने का भय रहेगा। पेट की बीमारी आदि।

कन्या : लगातार सफलता मिलती रहेगी। लोग तारीफ करेंगे। रुका हुआ धन मिलेगा। मन में संतोष रहेगा।

तुला : कठोर वाणी से विवाद। धनहानि की आशंका। मानसिक भ्रम का शिकार हो सकते हैं।

वृश्चिक : मित्रों, परिवारजनों से दूरी। अनावश्यक जिद से काम खराब। रक्त या अग्नि सम्बंधी बीमारी की आशंका।

धनु : कार्ययोजना में बाधा की आशंका। सरकार से वाद-विवाद। स्वभाव में अनावश्यक गर्मी से घर और परिवार में तनाव।

मकर : अचानक धन मिलेगा। संतान की उपलब्धियों से मन प्रसन्न होगा। संपत्ति आदि खरीद सकते हैं। पदोन्नति संभव है।

कुंभ : कार्यों में असफलता। अधिकारी नाराज हो सकते हैं। मेहनत बेकार जाएगी।

मीन : संपत्ति को लेकर विवाद। शरीर में कमजोरी। पराजय का डर रहेगा। धन का नाश हो सकता है।