हिंदू धर्म में दीपक जलाने का खास महत्व बताया गया है। ज्यादातर घरों में लोग शाम के समय पूजा घर में घी या तेल का दीपक जलाती हैं। कुछ महिलाएं तुलसी पर घी का दीपक जलाती हैं। वास्तु में दीपक का घर की संपन्नता से गहरा संबंध बताया गया है। वास्तु में दिशाओं का विशेष महत्व है। वास्तु का मतलब है कि अपने आस पास के वास को सही करना।  वास्तु में हर चीज की दिशा निर्धारित है। ये सारी दिशाएं शास्त्रों के हिसाब से ही बताई गई है।

दिशाएं या तो आपको अच्छा बनाती हैं या फिर गरीब बना देती हैं। ज्योतिर्विद कमल नंदलाल से बता रहे हैं कि गरीबी से छुटकारा पाने के लिए घर की किस दिशा में किस तेल का दीपक जलाना चाहिए। गरीबी से छुटकारा पाने के लिए ज्यादातर लोग उत्तर की तरफ मुंह करके लक्ष्मी की उपासना करते हैं जोकि गलत है। अगर आप गरीबी से पीछा छुड़ाना चाहते हैं तो दक्षिण दिशा के महत्व को समझें।

शास्त्रों में दक्षिण दिशा का खास महत्व बताया गया है। भगवान श्रीकृष्ण के सारे मंदिर वाममुखी हैं। लक्ष्मी का निवास भी उत्तर में नहीं, दक्षिण है। दुनिया से लेकर देश तक की दक्षिण दिशा अन्य दिशाओं की तुलना में अमीर है। उत्तर दिशा की तरफ आपको ज्ञान मिलेगा लेकिन पैसा दक्षिण दिशा की तरफ ही मिलेगा। घर की दक्षिण दिशा पैसे के लिए बहुत जरूरी होती है। इसे पुरुषार्थ की दिशा माना जाता है।

दक्षिण की दिशा लक्ष्मी की दिशा है। यही दिशा यम की भी है। इसलिए दीपावली पर यम और लक्ष्मी एक साथ आते हैं। दक्षिण दिशा को दक्षता की दिशा भी कहते हैं। लक्ष्मी को विष्णु प्रिय हैं और तिल को विष्णु का मैल माना जाता है। इसलिए घर की दक्षिण दिशा में अगर आप नियमित रूप तिल के तेल का दीपक जलाएंगे गरीबी आपका घर छोड़ कर भाग जाएगी। वास्तुशास्त्र के अनुसार दक्षिण दिशा में दीपक जलाकर आप अपनी दरिद्रता भगा सकते हैं और गरीबी से पीछा छुड़ा सकते हैं।