श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर 101 साल बाद बेहद खास संयोग बना है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जन्माष्टमी पर 101 साल बाद जयंती योग बना है जो कई राशियों की किस्मत चमकाने वाला है। मध्यरात्रि को अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र के संयोग से जयंती योग बनता है। हिंदू पंचांग के अनुसार, भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को ही भगवान विष्णु ने कृष्ण अवतार लिया था। मेष, कर्क, सिंह और मीन राशि के लिए ये संयोग बेहद शुभ माना जा रहा है। आइए जानते हैं जन्माष्टमी पर जयंती योग इन राशियों पर कैसा असर रहेगा—

मेष
अर्थिक रूप से मजबूत होंगे। संपत्ति का लाभ होगा। कोई शुभ सूचना मिलेगी। मेष राशि के जातक जन्माष्टमी के दिन बालगोपाल का गंगाजल से अभिषेक कर दूध से बनी मिठाई, नारियल का लड्डू और माखन-मिश्री का भोग अर्पित करें।

कर्क
कोई बड़ी समय हल हो सकती है। धन का लाभ होगा। करियर में सुधार होगा। कर्क राशि के जातक जन्माष्टमी के दिन भगवान श्री कृष्ण का घी से अभिषेक कर केसर या खोए की बर्फी और कच्चे नारियल से भोग लगाएं।

सिंह
संपत्ति का लाभ हो सकता है। धन लाभ के भी योग हैं। संतान के सहयोग से लाभ हो सकता है। सिंह राशि के जातक कृष्ण जन्मोत्सव के दिन मुरलीधर का गंगाजल में शहद मिलाकर अभिषेक करते हुए लाल पेड़े, अनार और गुड़ का भोग अर्पित करें।

मीन
धन लाभ के योग बन रहे हैं। करियर में सफलता मिलेगी। रुके हुए काम पूरे होंगे। मीन राशि के जातकों को जन्माष्टमी के दिन बाल गोपाल का पंचामृत से अभिषेक करें और मेवे की मिठाई चढ़ाएं।