मेष राशि

चू, चे, चो, ला, ली , लू, ले, लो, अ

मेष राशि के स्वामी मंगल ग्रह होने से ऐसे जातक का स्वभाव जोशिला और ऊर्जा से भरा होता है। आत्मा ग्रह सूर्य मेष राशि में उच्च के होते हैं और काल-पुरुष की यह प्रथम राशि होने पर यह सिर का कारक मानी जाती है।

 ये लोग आवेगी और साहसी होते हैं, जिससे हर काम निडरता पूर्ण करते हैं। ऐसे लोग जब भी अपना कोई लक्ष्य निर्धारित करते हैं, तब उसको पूरा करके ही आगे बढ़ते हैं। 

ऐसे लोगों को अचानक ही तूफान की तरह गुस्सा आता है और जल्दी ही शांत भी हो जाता है। इन्हें घूमने का बहुत शौक होता है, तभी ये लोग एक जगह पर अधिक देर तक टिक नहीं पाते। ये लोग बहुत ही भावुक भी होते हैं, जिससे सामने वाले की कोई भी गलती शीघ्र ही माफ भी कर देते हैं।