आज से पितृ पक्ष आरंभ हो चुके हैं। इन दिनों अपने पूर्वजों का याद किया जाता है और उनकी आत्मा की शांति के लिए पूजा की जाती है। बता दें कि श्राद्ध पक्ष भाद्रमास की पूर्णिमा से आरंभ होकर आश्विन मास की अमावस्या तक चलते हैं। जैसे कि हम जानते हैं कि मृत्यु के देवता यमराज श्राद्ध पक्ष में पितरों को मुक्त कर देते हैं, ताकि वे स्वजनों के यहां जाकर तर्पण ग्रहण कर सकें।

बताया जाता है कि श्राद्ध के इन दिनों में पितृ अपने घर आते हैं। इसलिए उनकी परिजनों को उनका तर्पण करना चाहिए। इस दौरान पितृ पक्ष में मांगलिक कार्य नहीं होते हैं। इन 15 दिनों में कोई शुभ कार्य जैसे, गृह प्रवेश, कानछेदन, मुंडन, शादी, विवाह नहीं कराए जाते। इसके साथ ही इन दिनों में न कोई नया कपड़ा खरीदा जाता और न ही पहना जाता है। पितृ पक्ष में लोग अपने पितरों के तर्पण के लिए पिंडदान, हवन भी कराते हैं।

ऐसें करें तर्पण-

पितृों के समर्पित इन दिनों में हर दिन उनके लिए खाना निकाला जाता है। इसके साथ ही उनकी तिथि पर बह्मणों को भोज कराया जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि श्राद्ध के दिन तर्पण जरूरी होता है। श्राद्ध के दिन तर्पण करना बहुत जरूरी है। तर्पण सुबह 11 बजे से 12 बजे के बीच दोपहर में करना चाहिए।

काला तिल, गंगाजल, तुलसी और ताम्रपत्र से तर्पण करना चाहिए। इस दिन पितरों की पसंद का भोजन बनवाना चाहिए। गाय और कोए के लिए ग्रास निकालना चाहिए। इसके अलावा बह्ममण को दान दक्षिणा देनी चाहिए। इस दिन तिल, स्वर्ण, घी, वस्त्र, गुड़, चांदी, पैसा, नमक और फल का दान करना चाहिए।