हल्दी का इस्तेमाल आमतौर पर मसाले के रूप में किया जाता है। हल्दी 2 प्रकार की होती है जैसे पीली और काली हल्दी। ज्योतिष शास्त्र में भी हल्दी से जुड़े ऐसे कई टोटके बताए गए हैं जो काफी चमत्कारी हैं। काली हल्दी धन से जुड़ी समस्या को दूर करने में काफी कारगर साबित होती है। यही कारण है कि काली हल्दी को चमत्कारी माना जाता है। काली हल्दी के टोटको किस प्रकार किए जाते हैं आइए जानते हैं...

-गुरु-पुष्य नक्षत्र में काली हल्दी को सिंदूर में रखकर किसी लाल कपड़े में लपेट लें। फिर इसमें कुछ सिक्के भी रखें। इसके बाद इसे धूप-दीप दिखाकर धन रखने वाले स्थान या तिजोरी में रखें। ऐसा करने से धन में वृद्धि होने लगती है।

यह भी पढ़ें : रूस-यूक्रेन छोड़ो, भारतीयों को देश के ही इस राज्य में जाने के लिए लेना पड़ता है वीजा, जानिए क्यों

-अगर जन्म कुंडली में गुरु और शुक्र की पीड़ा है। साथ ही जिसकी वजह से धन आने में रुकावटें आ रही हैं तो ऐसे में किसी माहीने के शुक्लपक्ष के पहले गुरुवार को काली हल्दी को पीसकर इसका तिलक लगाएं। ऐसा करने से शनि और गुरु की पीड़ा से मुक्ति मिलती है और धन का आवक बना रहता है।

-अगर धन आकर भी पास में टिकता नहीं है या अनावश्यक पैसा बर्बाद होता रहता है तो इसे दूर करने के लिए शुक्लपक्ष के पहले शुक्रवार को चांदी की डिब्बी में काली हल्दी, नागकेशर और सिंदूर मिलाकर मां लक्ष्मी के चरणों में रख दें। इसके बाद इसे तिजोरी या धन रखने वासे स्थान पर रख दें। मान्यता है कि ऐसा करने से धन रुका रहता है।

यह भी पढ़ें : फागुन के इस मौसम में परवान पर है असम का प्राकृतिक सौंदर्य, ये तस्वीरें जीत लेंगी दिल

-अगर व्यापार में लगातार गिरावट आ रही है। ऐसे में इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए शुक्लपक्ष के पहले गुरुवार के दिन पीले कपड़े में 11 काली हल्दी की गांठ, 11 शुद्ध किए हुए गोमती चक्र, चांदी का सिक्का और 11 कौड़ियों को किसी कपड़े में बांधकर 108 बार 'ओम् नमो भगवते वासुदेवाय नमः' का पाठ कर इसे व्यापार वाले स्थान पर रखें। ऐसा करने से बिजनेस में आर्थिक उन्नति होने लगती है।

-अगर घर के किसी सदस्य की सेहत बराबर खराब रहती है। साथ ही बहुत कोशिश करने के बावजूद भी स्वास्थ्य ठीक नहीं हो रहा है तो ऐसे में गुरुवार के दिन आटे के 2 पेड़े बनाकर उसमें गीली चने की दाल के साथ गुड़ और थोड़ी सी काली हल्दी रोगी के सिर के ऊपर से 7 बार उतारकर गाय को खिला दें। इस टोटके को लगातार 3 गुरुवार करना है। ऐसा करने से रोगी की सेहत में सुधार हो सकता है।