इस महीने की समाप्ति और अलगे महीने के शुरूआती बहुत ही धार्मिक है। इस समय में कई तरह के पर्व आ रहे हैं। पितृ पक्ष अभी चल रहा है और इसके बाद शरदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri) और फिर महानवमी (Mahanavami), दशहरा (Dussehra) आ रहा है। इसी तरह से इंदरा एकादशी का पर्व भी आ रहा है। यह आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को इंदिरा एकादशी (Indira Ekadashi) कहते हैं।

जैसे कि हम जानते हैं कि एकादशी तिथि भगवान विष्णु (Lord Vishnu) को समर्पित होती है। ऐसे में इस दिन भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा की जाती है। पितृ पक्ष में आने से इंदिरा एकादशी का महत्व और बढ़ जाता है।


शुभ मुहूर्त-

आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि 01 अक्टूबर, शुक्रवार को रात 1 बजकर 03 मिनट से प्रारंभ होगी। एकादशी तिथि का समापन 02 अक्टूबर, शनिवार को रात 11 बजकर 10 मिनट पर होगा। इंदिरा एकादशी व्रत 02 अक्टूबर को रखा जाएगा।
व्रत पारण का समय-

इंदिरा एकादशी का व्रत द्वादशी तिथि में होगा। व्रत पारण का शुभ समय 03 अक्टूबर को सुबह 06 बजकर 15 मिनट से सुबह 08 बजकर 37 मिनट तक है।