सपने बच्चों से लेकर बूढ़ों तक सभी को आते हैं। कुछ सपने ऐसे होते हैं जो याद रह जाते हैं तो कुछ भूल जाते हैं। सपनों की ऐसी दुनिया जहां पर आपका कोई बस नहीं चलता है। सोते समय वह कभी भी आपको कहीं भी पहुंचा देते हैं। नींद में आने वाले हर सपने का अपना एक अलग महत्व होता है। ज्‍योतिष के अनुसार रात में सोते समय दिखाई देने वाले स्‍वपनों में कई संकेत छिपे होते हैं, जिसके माध्यम से आप भविष्य में होने वाली घटनाओं को जान सकते हैं। यदि आपको हर समय बुरे सपनो का डर सताता है और उसे देखते हुए आप अक्सर चौंक कर उठ जाते हैं और उसके बाद आपको रात भर नींद नहीं आती है तो ऐसे सपनों से बचने के लिए आप नीचे दिये गये उपायों को कर सकते है।

बुरे सपनों से बचने के लिए सबसे पहले अपने बिस्तर को साफ रखें और प्रतिदिन पैर–हाथ धोकर साफ–सुथरे कपड़े पहन कर ही सोएं। सोने से पहले हिंसात्मक या फिर डरावनी फिल्मों को देखने और ऐसी बातचीत करने से बचें।

यदि आपको बुरे सपने आते हैं तो रात को सोते समय अपने बिस्तर के नीचे चाकू, कैंची, या फिर नेल कटर रख कर सोएं। इसके साथ आप चाहें तो एक कपड़े में 5-6 लौंग और इलायची को बांध कर रख दें। इससे भी बुरे सपने आना बंद हो जाते हैं।

​यदि महिलाओं को हर रात बुरे सपने आ रहे हों तो बाल खोल कर न सोएं। अपने बिस्तर के पास कभी भी भूलकर जूते–चप्पल आदि न रखें। ऐसा करने पर अक्सर उसके आस–पास सोने वाले को बुरे सपने आते हैं। घर में पहनने वाली चप्पल को भी आप अपने बेड से कुछ दूरी पर उतारें।

यदि आपको बुरे सपने आते हों तो आप मोरपंख से जुड़ा उपाय भी कर सकते हैं। यदि आप मोरपंख को अपने तकिये के नीचे रख कर सोते हैं तो आपको बुरे सपने नहीं आएंगे।

बुरे सपने से बचने के लिए प्रतिदिन सोते समय हनुमान चालीसा का पाठ करें। बुरे सपने से बचने के लिए सूर्यदेव की पूजा का उपाय भी अत्यंत लाभदायक है। प्रतिदिन सूर्यदेव को जल चढ़ाने से भी बुरे सपनों से निजात मिलती है और मन हमेशा प्रसन्नचित्त रहता है। भगवान शिव की पूजा से भी किसी भी प्रकार भय, भूत और बुरे सपने दूर हो जाते हैं। बुरे सपनों से बचने के लिए शिव पूजा के बाद महामृत्युंजय मंत्र का पाठ करें।