मिथुन राशि

का, की, कू, घ, ड, छ, के, को, हा

मिथुन राशि के स्वामी बुध ग्रह होते हैं, यह द्विस्वभाव राशि है, जिससे इनका स्वभाव दोहरा किस्म का होता है। 

यह तुरंत निर्णय नहीं ले पाते और अगर निर्णय ले भी लेते हैं तो जल्दी ही बदलने भी लगते हैं। यह शीघ्र अति शीघ्र परिवर्तन करने को तैयार हो जाते हैं। 

ऐसे लोगों को नए-नए स्थानों पर आना-जाना बहुत पसंद होता है। यह अधिकतर असमंजस वाली स्थिति में आ जाते हैं और दूसरों की बातों में भी आकर अपने विचारों को बदल भी लेते हैं।

इन्हें पढ़ने लिखने का बहुत शौक होता है। इस वर्ष शनि ग्रह आपकी राशि से अष्टम भाव में गोचर कर रहे हैं और राहु द्वादश भाव में, जिससे इस वर्ष अपने खर्चे का अधिक ध्यान रखना होगा।