अगर आप बजरंग बली के भक्त हैं तो आपको इसकी जानकारी होगी कि भगवान हनुमान (Lord Hanuman) नाम श्रद्धा और विश्वास के साथ पुकारते ही वह अपने भी भक्तों को बचाने के लिए दौड़े चले आते हैं। हनुमत कृपा पाने के लिए साधक को उनकी उपासना में सही नियमों का पालन करते हुए कुछ विशेष सावधानियां बरतने की जरूरत होती है।
इन बातों का रखें ध्यानः-

  •     हनुमान जी (Hanuman ji) की साधना के लिए हमेशा उनके चित्र को लगाते समय विशेष ध्यान रखना चाहिए क्योंकि हनुमान जी के विशेष स्वरूप की पूजा का विशेष फल मिलता है।
  •  मसलन यदि आपकी कामना शांति की हो तो आपको हनमुत के ध्यान मुद्रा वाली तस्वीर की पूजा करनी चाहिए और यदि आपको रोग या बड़े संकट से मुक्ति की अभिलाषा हो तो आप हनुमान जी को पहाड़ उठाए वाली फोटो की पूजा करनी चाहिए।
  •     हनुमान जी (Hanuman ji) के चित्र को हमेशा सही दिशा में लगाना चाहिए और घर में कभी भी हनुमान जी की उस फोटो को न लगाएं, जिसमें उन्होंने अपनी छाती चीर रखी हो या फिर लंका दहन कर रहे हों। घर के भीतर ऐसी फोटो लगाना शुभ नहीं माना जाता है। घर में हमेशा हनुमान जी की आशीर्वाद मुद्रा वाली फोटो की साधना करनी चाहिए।
  •     बजरंगी की साधना करते समय हनुमत भक्त को कभी भी प्रसाद में चरणामृत नहीं चढ़ाना चाहिए। हनुमान जी को कभी भी चरणामृत नहीं चढ़ाया जाता है।
  •     हनुमान जी की पूजा में पवित्रता का हमेशा ख्याल रखना चाहिए और हमेशा स्वच्छ और धुले कपड़े पहनकर ही पूजा करना चाहिए।
  • हनुमत (Hanumat) साधना के दौरान भूलकर भी स्त्री संसर्ग नहीं करना चाहिए और न ही अपने मन में कामुक विचार लेकर आना चाहिए।
  •     श्री हनुमान जी की उपासना सभी लोग कर सकते हैं लेकिन हनुमान जी की पूजा करते समय स्त्रियों को कुछेक बातों का विशेष ख्याल रखना चाहिए। जैसे स्त्रियों को कभी भी हनुमान जी की मूर्ति को स्पर्श नहीं करना चाहिए।
  •     हनुमत भक्त को बजरंगी की साधना को सफल बनाने के लिए किसी भी प्रकार का नशा नहीं करना चाहिए। इसी प्रकार हनुमत भक्त को मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा करते समय मांस-मदिरा (meat and liquor) का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए।