मीठे-मीठे रसीले फल सभी को अच्छे लगते हैं। क्योंकि फलों में विटामिन्‍स और फाइबर से भरपूर मात्रा में होते हैं जिनसे हमारी सेहत बनती है और शरीर को सभी जरूरी पोषक पदार्थ प्रदान मिलते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि फलों को खाते-खाते हम अपनी सेहत के साथ-साथ ग्रहदशा भी सुधार सकते हैं। जी हां, हम आपको बता रहे हैं कि फलों और सब्जियों के रस के बारे में जो 9 ग्रहों के अशुभ प्रभाव को खत्म कर सकते हैं।

चंद्रमा
चंद्रमा को आपके जीवन में बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य और सौंदर्य का कारक माना जाता है। अगर चंद्रमा के आपके जीवन पर अशुभ प्रभाव हों तो उसे खत्‍म करने के लिए आपको लीची, खरबूज और गन्‍ने के रस का सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से चंद्रमा आपके अनुकूल होता है।

मंगल
मंगल को साहस, शौर्य और वीरता का कारक माना जाता है। अगर आप अपने जीवन से मंगल के अशुभ प्रभाव समाप्‍त करना चाहते हैं तो खाने की चीजों में लाल वस्‍तुओं की मात्रा को बढ़ा दीजिए। फलों और सब्जियों में आप अनार, टमाटर और चुकंदर के रस का प्रयोग कर सकते हैं। ऐसा करने से आपके ऊपर मंगल के अशुभ प्रभाव कम होने लगते हैं।

बुध
बुध को विद्या, बुद्धि और करियर से संबंधित माना जाता है। बुध ग्रह के लिए हरा रंग सबसे प्रभावी माना जाता है। बुध के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए आपको नाशपाती खाना चाहिए और हरे आंवले का रस रोजाना पीना चाहिए।

गुरु
गुरु को धन देने वाला और यश प्रताप देने वाला ग्रह माना जाता है। अगर आप चाहते हैं कि गुरु के अशुभ प्रभाव आप पर न पड़ें जो आपको केले, पपीते, संतरे और नारंगी का सेवन करना चाहिए। पीली और लाल वस्‍तुओं पर गुरु का प्रभाव माना जाता है।

शुक्र
शुक्र को वृष और तुला राशि का स्‍वामी माना जाता है और इनकी कृपा से हमें जीवन में प्रेम, सौंदर्य और सुख-सुविधाओं की प्राप्ति होती है। शुक्र के शुभ प्रभाव प्राप्‍त करने के लिए हमें लीची और खरबूज के जूस का सेवन करना चाहिए। हमें रोजाना अपने खाने में मूली का सलाद प्रयोग करना चाहिए।

शनि-राहु-केतु
ज्‍योतिष में इन तीनों को ही छाया ग्रह माना गया है। इनकी अशुभतो को खत्‍म करने के लिए आपको अधिक से अधिक काली चीजों का सेवन करना चाहिए। काले अंगूर, काले जामुन और फालसे का रस आप पी सकते हैं। इससे आपको निश्चित ही लाभ होगा।