कुछ चीजें ऐसी होती है जो सही वक्त पर की जाए तो ठीक रहती है लेकिन अगर गलती से भी गलत  वक्त पर फैसला ले लिया जाता है या काम कर लिया जाता है तो जिंदगी भर अफसोस और दुख के अलावा कुछ नहीं होता है। इसके लिए खास ध्यान रखें कि रविवार के दिन, या ‘हस्त’ नक्षत्र हो या रविवार को ‘अमृतसिद्धि योग’ हो तो भूलकर भी कर्जा नहीं लेना चाहिए। वरना कर्जा चुकाना कठिन होता है। 

जानकारी के लिए बता दें कि रविवार को कर्जा वापिस करना अति शुभ है। इसी तरह से संक्रांति के दिन या ‘वृद्धि’ नामक योग हो तो भी भूलकर कर्जा नहीं लेना चाहिए वरना धन दक्षिण दिशा के गये मेघ जैसा वापिस नहीं आता है। बहुत कठिनता से रकम की वसूली होती है। बुधवार को भूलकर भी किसी को रकम या ब्याज पर धन नहीं देना चाहिए वरना धन दक्षिण दिशा के गये मेघ जैसा वापिस नहीं आता है। 

बता दें कि बहुत कठिनता से रकम की वसूली होती है।  यदि अपने मकान का ईशान कोण पर बना अधिकभार वाला भाग हटा दें। तथा नैऋति कोण का मकान ऊँचा बना दे अर्थात वजन बढ़ा दें तो कर्जा अपने आप खत्म हो जाएगा। भूलकर भी ईशान कोण का हिस्सा ऊँचा न करे तथा नैऋति का भाग नीचा न करे अर्थात अधिक ऊँचा करे तो कर्जा समाप्त हो जाता है।