आज शनिवार है और शनि देव का वार हैं। आज का दिन शनि देव को समर्पित होता है। आज के दिन शनि देव की विधि-विधान से पूजा करने पर हर न्यायिक मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।

आज शनिवार है और शनि देव का वार हैं। आज का दिन शनि देव को समर्पित होता है। आज के दिन शनि देव की विधि-विधान से पूजा करने पर हर न्यायिक मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। शनि देव को कर्म फल दाता भी कहा जाता है। शनि देव कर्मों के हिसाब से फल देते हैं। शनि देव के क्रोध से हर कोई भयभीत रहता है।

जानकारी के लिए बता दें कि ज्योतिष में शनि देव को पापी ग्रह कहा जाता है। शनि के प्रकोप प्रभावों से बचने के लिए शनिवार के दिन कुछ उपाय करने से अच्छा होता है। बता दें कि हनुमान जी की पूजा-अर्चना करने से शनि दोषों से मुक्ति मिल जाती है। शनिवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करें। शनिवार के दिन शनिदेव की विधि-विधान से पूजा-अर्चना करें।

आज के दिन शनिदेव को तेल अर्पित करें। घर में रहकर ही शनिदेव की पूजा करें। इस दिन शनि चालीसा और शनि देव के मंत्रों का जप करें। शनि देव न्याय करते हैं और दोषी को सजा देते हैं इसलिए दोषों से मुक्त होने के लिए शनि दोहा दोहराए-

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल।

दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥

जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज

करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥