मकर संक्रांति ( Makar Sankranti 2022) साल की शुरुआत मानी जाती है। इस पर्व पर गंगा स्नान, व्रत, कथा, दान और भगवान सूर्यदेव की उपासना करने से घर में सुख एवं शांति भरा माहौल बना रहता है। इस दिन किए गए दान का फल बाकी दिनों के मुकाबले कई गुना ज्यादा होता है।
आपके लिए खास ध्यान रखने की बातें बता दें कि इस दिन कुछ कार्य होते हैं जिनको ना करें तो ही बेहतर हैं। इन कार्यों के करने से बाद में कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। जैसे कि-
ये काम ना करें-

– अगर आपके घर कोई भिखारी (beggars) या गरीब कुछ मांगने आता है तो भूल से भी उसे खाली हाथ न भेजें। उसे दान में खिचड़ी व अन्य चीजें भेंट करें।

– इस दिन किसी भी तरह के नशे से दूर रहना चाहिए। मदिरा पान (Alcohol) या अन्य नशीले पदार्थों का सेवन अशुभ रहता है।

– जो व्रत नहीं रख रहे हैं और पूजा-पाठ में विश्वास रखते हैं, तो उन्हें भी कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है। स्नान एवं पूजा (worship) से पूर्व किसी भी तरीके से भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए।