अधिक क्रोध या गुस्सा करना हमारे स्वास्थ्य पर तो बुरा असर डालता ही है पर एक विशेष बात यह भी है के क्रोध की अवस्था में व्यक्ति हमेशा गलत ही निर्णय करता है, जिसके कारण बाद में पछताना पड़ता है। 

क्रोध का परिस्थितिवश सकारात्मक रूप में होना गलत नहीं है परंतु क्रोध का स्थिर स्वभाव में होना या नकारात्मक रूप में होना व्यक्ति के जीवन में बड़ी बाधायें उत्पन्न करता है, इसलिए कुछ आसान उपाय करके अनावश्यक आने वाले क्रोधी स्वभाव को नियंत्रित किया जा सकता है।

*  घर के पूजास्थल में चंद्र यन्त्र स्थापित करके 'ॐ श्राम श्रीम श्रौम सः चन्द्रमसे नमः' का एक माला रोज जाप करें।

* मंगलवार को हनुमान जी को अनार का फल चढ़ायें।

* मंगलवार को गुड़ या साबुत लाल मसूर का दान करें।

* शनिवार को साबुत उड़द का दान करें।

* मस्तक पर सफ़ेद चन्दन का तिलक लगायें।

* किसी योग्य ज्योतिषी से परामर्श के बाद यदि मोती आपके लिए शुभ है तो मोती भी धारण कर सकते हैं।