आज शनिवार और आज का दिन भगवान शनिदेव को समर्पित होता है। शनिदेव न्याय के देवता माने जाते हैं। यह इंसान को उसके कर्मों के हिसाब से फल देते हैं। इसलिए किसी की आत्म नहीं दुखानी नहीं चाहिए। इस तो कोरोना महामारी ने इंसान को घरों मे ही कैद कर दिया है और कई लोग दुनिया से रुकस्त हो चुके हैं। ज्योतिषशास्त्रों के मुताबिक इस साल 2021 में शनि का राशि परिवर्तन नहीं हुआ है।

जानकारी के लिए बता दें कि शनि ग्रह एक राशि से दूसरी राशि में जाने में ढाई साल का समय लेते हैं। सभी ग्रहों में शनि सबसे धीमी गति से चलते हैं। शनि के राशि परिवर्तन करने पर तीन राशियों पर साढ़ेसाती और दो राशियों पर ढैय्या का प्रभाव शुरू हो जाता है। बता दें कि शनि जिस राशि में प्रवेश करते हैं उस पर उस राशि के आगे-पीछे वाली राशियों पर शनि की साढ़ेसाती शुरू हो जाती है।

शनिग्रह 29 अप्रैल 2022 को राशि परिवर्तन करेंगे। इस समय धनु, कुंभ और मकर राशि पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है और तुला, मिथुन राशि पर शनि की ढैय्या चल रही है। धनु, कुंभ, मकर, तुला और मिथुन राशि के जातकों को 29 अप्रैल 2022  तक सावधान रहने की आवश्यकता है। बता दें कि शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करने से धुन राशि को साढ़ेसाती से और तुला और मिथुन राशि के जातकों को ढैय्या से मुक्ति मिल जाएगी।