अच्छी नींद (Good sleep) सेहत के लिए बहुत अच्छी होती है लेकिन जिंदगी की भागमभाग में ना आराम पूरा होता है ना ही नींद पूरी होती है। जिससे मानसिक बीमारियों के शिकार हर कोई दूसरा इंसान होता है। नींद में कई बार अपने आप ही खुल जाती है, यानी हम जग जाते हैं। तो ऐसे आपके साथ होता है तो आपके लिए एक संकेत होता है। विज्ञान कहता है कि नींद का खुद बखुद खुल जाने पर ये कार्य जरूर कर लेने चाहिए.....
सुबह 5 बजे से 7 बजे के बीच नींद खुलना-

सुबह 5 से 7 बजे के बीच नींद खुलने का मतलब है कि आपको खुद को इमोशनल लेवल पर मजबूत करने की जरूरत है। ऐसे लोगों को नियमित रूप से मेडिटेशन (meditation) जरूर करना चाहिए।
रात 1 से 2 बजे के बीच नींद खुलना-

रोजाना रात में 1 बजे से 2 बजे के बीच नींद खुलती हो, तो ये आपको ​आपके गुस्से की ओर इशारा करता है. इसका मतलब है कि किसी कारण से आपके स्वभाव में गुस्सा पनप रहा है। आपको अपने तेज गुस्‍से को नियंत्रित करने की जरूरत है।
रात 12 से 1 के बीच नींद खुलना-

तमाम लोगों की नींद 12 बजे से 1 बजे के बीच टूटती है. अगर आपके साथ रोजाना ऐसा होता है, तो समझिए आपके आसपास कोई शक्ति आपको आपके लक्ष्य प्रति जागरुक कर रही है। ऐसे में आपको आत्ममंथन (introspection) करना चाहिए और अपने जीवन के प्रति गंभीर होने का प्रयास करना चाहिए।

 

11 से 12 बजे के बीच नींद खुलना

अगर आपकी नींद रोजाना रात को 11 से 12 के बीच खुलती है, तो इसका मतलब है कि आपके मन में बहुत सारी नकारात्मकता भर रही है। ऐसे में आपको रोजाना सोने से पहले कुछ अच्छा पढ़कर या ईश्वर (God) का नाम लेकर सोना चाहिए।