इस बार 3 मई मंगलवार को अक्षय तृतीया होगी। अक्षय तृतीया को सभी कार्यों विवाह, यज्ञोपवित, मुंडन, कर्ण छेदन, दुकान खोलना, कोई नया कार्य शुरू करना, ग्रह प्रवेश, प्रतियोगिता परीक्षा के लिए पढ़ाई प्रारंभ करने जैसे कार्य को शुरू कर सकते हैं। इस दिन प्रातः 6 बजे से 9 बजे तक 12 से 12.30 दोपहर तक विशेष मुहूर्त स्नान, दान का होगा। मंदिर आदि की प्रतिष्ठा का मुहूर्त भी 12 बजे होगा।

यह भी पढ़े :पीएम मोदी को नोबेल पुरस्कार देने की मांग, BSE के CEO ने कोविड के दौरान दी गई मुफ्त राशन स्कीम को सराहा


ज्योतिषाचार्य के अनुशार यह वर्ष का एक मात्र दिन होता है जब चंद्रमा और सूर्य दोनों ही अपनी उच्च राशि पर होते हैं और जब चंद्रमा बली हो सूर्य भी बली हो तो कार्य की सफलता की 100 प्रतिशत उम्मीद होती है।  

यह भी पढ़े : Monthly Horoscope May 2022: ग्रहों का उलटफरे इन राशिवालों को आर्थिक लाभ दिलाएगा, इन राशियों के लिए जोखिम भरा रहेगा ये महीना


इस दिन दान के लिए सर्वोत्तम दिन माना जाता है, कहा जाता है इस दिन किया हुआ दान अक्षय फल प्रदान करता है। यानि वो कभी भी समाप्त नहीं होता है हर जन्म में उसका शुभ फल मिलता है । इस दिन गंगा में स्नान का फल नासिक कुंभ में स्नान के फल के तुल्य बताया गया है। स्नान के बाद सत्तू, छतरी, जूता, कपड़ा, रजत, फल, इनका दान बहुत शुभ कहा जाता है।

अक्षय तृतीया 2022 शुभ मुहूर्त-

तृतीया तिथि 03 मई 2022 को सुबह 05 बजकर 19 मिनट से शुरू होकर 04 मई की सुबह 07 बजकर 33 मिनट तक रहेगी। इस दिन रोहिणी नक्षत्र सुबह 12 बजकर 34 मिनट से 04 मई की सुबह 03 बजकर 18 मिनट तक रहेगा।

अक्षय तृतीया का महत्व- 

अक्षय तृतीया के दिन को अबूझ मुहूर्त माना जाता है। इस दिन विवाह के साथ वस्त्र, आभूषण, भवन व वाहन आदि की खरीदारी करना शुभ माना जाता है। इसके साथ ही इस दिन धार्मिक कार्य शुभ फलदायी माने जाते हैं। मान्यता है कि अक्षय तृतीया के दिन दान करने से सुख-संपत्ति में बढ़ोतरी होती है।