आज भाद्रपद माह कृष्ण पक्ष की अष्टमी है।रोहिणी नक्षत्र है।आज श्री कृष्ण जन्माष्टमी का पावन पर्व है। परमब्रम्ह भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव है। आज व्रत रखकर भगवान कृष्ण जी की पूजा करते हैं।आज बहुत पावन व्रत है। भगवान विष्णु  जी को प्रसन्न करने का पावन व्रत है। आज भगवान शिव जी की उपासना के साथ माता दुर्गा जी की पूजा भी करें। आज सत्यनारायण कथा करने का बहुत सुंदर अवसर है। मंदिर में बाल कृष्ण जी का दर्शन करें व श्री विष्णुसहस्रनाम का पाठ करें। 

यह भी पढ़े : Janmashtami 2022 Live Darshan: जन्माष्टमी पर करें योगीराज भगवान श्रीकृष्ण के लाइव दर्शन


दुर्गा जी की स्तुति करें।आज दान का बहुत महत्व व पुण्य है।आज पुण्य संचय करने का महान दिवस है।गुरुवार को विष्णु उपासना व व्रत का पुण्य भी है। प्रातःकाल पंचाग का दर्शन, अध्ययन व मनन आवश्यक है। शुभ व अशुभ समय का ज्ञान भी इसी से होता है। विजय व गोधुली मुहूर्त भी बहुत ही सुंदर होता है। राहुकाल में कोई भी कार्य या यात्रा आरम्भ नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़े : Janmashtami 2022: जन्माष्टमी पर विधि-विधान से करें मुरली मनोहर की पूजा, जानें विधि, शुभ मुहूर्त व सामग्री लिस्ट


आज का पंचांग 

दिनांक-19 अगस्त 2022

दिवस - शुक्रवार

माह - भाद्रपद, कृष्ण पक्ष

तिथि- अष्टमी। जन्माष्टमी का पावन पर्व।

सूर्योदय-05:57am

सूर्यास्त-06:51pm

नक्षत्र - रोहिणी

सूर्य राशि - सिंह

चन्द्र राशि- वृष

करण-बालव

योग-ध्रुव

19 अगस्त 2022 के शुभ मुहूर्त

19 अगस्त 2022 का अभिजीत मुहूर्त - 11:53am से 12:42 pm तक।

19 अगस्त 2022 का विजय मुहूर्त - 02:32pm से 03:29 pm तक

19 अगस्त 2022 का गोधुली मुहूर्त - 06:46pm से 07:19pm तक

19 अगस्त 2022 का अशुभ मुहूर्त

राहुकाल - प्रातःकाल 10:30 बजे से 12 बजे तक