डिब्रूगढ़ : अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त योग प्रतिपादक तरुण साहा ने कहा है कि भारत में योग मुद्रा बनाने की मशीन बन गया है।  उन्होंने दावा किया कि कुछ लोग कुछ हफ़्तों के लिए योग कक्षाओं में भाग लेकर केवल पैसा कमाने के लिए योग शिक्षक बन जाते हैं।

यह भी पढ़े : राशिफल 16 सितंबर: इन राशि वालों के लिए लक्ष्मी योग का हो रहा निर्माण, ये लोग लाल वस्‍तु पास रखें


आपको बता दें कि तरुण साहा बिक्रम योग के योग शिक्षक हैं। पिछले कई सालों से वह मेक्सिको में रह रहे हैं और योग सिखाते हैं। उन्होंने कहा, 'अब योग पैसा बनाने की मशीन बन गया है। कुछ लोग किसी संस्थान में 1 महीने का योग कोर्स करते हैं और भारत में योग शिक्षक बन जाते हैं, 

ऐसे बहुत सारे स्कूल भारत में हैं। कुछ शिक्षक योग सिखाने के लिए पर्याप्त रूप से योग्य नहीं हैं क्योंकि उनके पास योग की कोई उचित शिक्षा नहीं है। तरुण साहा ने कहा कि यह बहुत गलत है कि कुछ लोगों ने योग को व्यवसाय के रूप में लिया है।

यह भी पढ़े : इन राशि वालों के लिए शुभ होती है सोने की अंगूठी, बाधाओं से मिलती है मुक्ति, होगा लाभ ही लाभ


उन्होंने आगे कहा, "मैं काफी भाग्यशाली हूं कि मैंने योग विशेषज्ञ बिक्रम चौधरी से योग सीखा है। बिक्रम चौधरी ने मुझे व्यापक रूप से योग सीखने में मदद की। योग पूर्ण विज्ञान है और योग के मूल सिद्धांतों को जाने बिना आप योग नहीं कर सकते।

साहा ने कहा, बिक्रम योग गर्म योग की एक प्रणाली है। व्यायाम के रूप में योग का एक प्रकार बिक्रम चौधरी द्वारा तैयार किया गया और बीसी घोष की शिक्षाओं पर आधारित है। हमारी कक्षाओं में 26 मुद्राओं का एक निश्चित क्रम होता है जिसका अभ्यास 41 डिग्री सेल्सियस तक गर्म कमरे में किया जाता है, ”

यह भी पढ़े : Pitru Paksha Shradh 2022  : सप्तमी का श्राद्ध आज, जानिए श्राद्ध- विधि और सामग्री की पूरी लिस्ट


उन्होंने आगे कहा, "योग एक अनुशासन है। सामान्य योग शिक्षक योग स्टूडियो खोलकर और गलत तरीके से योग सिखाकर पैसा कमा रहे हैं। उन्हें पहले योग के दर्शन को समझना चाहिए।" तरुण साहा ने खुलासा किया कि कैसे योग को सही तरीके से किया जा सकता है।

 सागा ने कहा, अभी मैं गुवाहाटी में हूं और पूर्वोत्तर के योग शिक्षकों के साथ योग के बारे में चर्चा कर रहा हूं। 

हमारा मुख्य उद्देश्य है कि लोग योग के वास्तविक पहलू को जानकर सही तरीके से योग करें। योग हमारी प्राचीन संस्कृति से जुड़ा है और हमारी युवा पीढ़ी को योग के लाभों को जानना चाहिए और उचित मार्गदर्शन में इसे सीखना चाहिए।