नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि केंद्र वर्ष 2024 तक पूर्वोत्तर राज्यों के बीच सीमा मुद्दों को समाप्त करने की दिशा में काम कर रहा है। अमित शाह ने यह बयान केंद्र, असम सरकार और राज्य के आठ आदिवासी उग्रवादी समूहों के बीच शांति समझौते पर हस्ताक्षर के दौरान दिया।

यह भी पढ़े : राशिफल 16 सितंबर: इन राशि वालों के लिए लक्ष्मी योग का हो रहा निर्माण, ये लोग लाल वस्‍तु पास रखें


अमित शाह ने कहा कि केंद्र पूर्वोत्तर की शांति और समृद्धि के लिए काम कर रहा है।

उन्होंने कहा, "हमने तय किया है कि 2024 से पहले अंतर-राज्यीय सीमा विवाद हों विद्रोही समूह हों, हम सभी विवादों को समाप्त करना चाहते हैं।"

विशेष रूप से बाद में दिन में,केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नई दिल्ली में असम और अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्रियों - हिमंत बिस्वा सरमा और पेमा खांडू से मुलाकात की।

यह भी पढ़े : इन राशि वालों के लिए शुभ होती है सोने की अंगूठी, बाधाओं से मिलती है मुक्ति, होगा लाभ ही लाभ


केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दो पूर्वोत्तर राज्यों - असम और अरुणाचल प्रदेश के बीच सीमा संबंधी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए महत्वपूर्ण बैठक बुलाई थी।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ बैठक से पहले असम और अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने नई दिल्ली में असम हाउस में एक बैठक की। असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, "हम लंबे समय से चल रहे सभी मुद्दों को हमेशा के लिए सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।"

यह भी पढ़े : Pitru Paksha Shradh 2022  : सप्तमी का श्राद्ध आज, जानिए श्राद्ध- विधि और सामग्री की पूरी लिस्ट


विशेष रूप से, असम और अरुणाचल प्रदेश ने 15 जुलाई को 'नमसाई घोषणा' पर हस्ताक्षर किए थे।  जिसके तहत दोनों राज्यों ने विवादित गांवों को पिछले 123 के बजाय 86 तक सीमित करने का निर्णय लिया था।