काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के अधिकारियों ने अभयारण्य में वाहनों के लिए अधिकतम गति सीमा 40 किमी प्रति घंटे तय की है, जिसका उद्देश्य वन्यजीवों को सड़क हादसे से बचाना है। उन्होंने कहा कि वाहनों की गति का पता लगाने के लिए असम में रेंगाली से बोरजुरी तक फैले पार्क के नौ नामित पशु गलियारों में छह सेंसर आधारित कैमरे लगाए गए हैं।

ये भी पढ़ेंः मौसम विभाग की बड़ी चेतावनी, इन दो राज्यों का होगा बुरा हाल, भारी बारिश के लिए रहें तैयार, रेड अलर्ट जारी


ये भी पढ़ेंः असम कैबिनेट विस्तार के बाद भाजपा सदस्यों की संख्या 11 से बढ़ कर हुई 13


पूर्वी असम वन्यजीव प्रभाग के डीएफओ रमेश गोगोई ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग 37 के साथ कैमरे लगाए गए हैं, जो प्रसिद्ध एक सींग वाले गैंडों के घर काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान की दक्षिणी सीमाओं से गुजरते हैं और ये शुक्रवार से चालू हो जाएंगे। संभागीय वन अधिकारी ने कहा कि कैमरे गति के निर्धारण के लिए रडार से पहचानने वाले स्वचालित नंबर प्लेट से लैस हैं। अधिकारी असम में बाढ़ के दौरान वाहन की गति सीमा को नियंत्रित करते थे क्योंकि जानवर सूखी भूमि की तलाश में NH 37 के पास आते हैं और कई हाइलैंड्स तक पहुंचने के लिए सड़क पार करते हैं।