असम के पर्यावरण मंत्री परिमल शुक्लवैद्या ने बृहस्पतिवार को कहा कि विभिन्न एजेंसियों और विशेषज्ञों से प्राप्त रिपोर्टों तथा जांच अधिकारी के निष्कर्ष इस ओर इशारा करते हैं कि प्रस्तावित रिजर्व वन में हाल ही में हुईं 18 हाथियों की मौत की वजह ''बिजली गिरने के चलते दुर्घटनावश करंट लगना'' है।

मंत्री ने यहां संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि प्रशासन ने विभिन्न एजेंसियों के निष्कर्षों पर विचार करते हुए यह अनुमान लगाया है। इनमें दस डॉक्टरों की एक टीम द्वारा तैयार की गई पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट, राज्य की फोरेंसिक लैब और मौसम विभाग की ओर से प्राप्त डाटा व राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों की टिप्पणियां शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि कुंडोली प्रस्तावित आरक्षित वन में 12 मई को हुई हाथियों की मौत का कारण जहर देकर मारना या घातक बीमारी को नहीं बल्कि बिजली गिरने के कारण दुर्घटनावश करंट लगना हो सकता है।