ऊपरी असम के तिनसुकिया जिले के दुर्गाबाड़ी में बुधवार तड़के एक 70 वर्षीय व्यक्ति को जंगली हाथी ने कुचल कर मार डाला। व्यक्ति की पहचान चितरंजन चक्रवर्ती के रूप में हुई है। एक स्थानीय निवासी ने कहा कि वह व्यक्ति अपने घर से मॉर्निंग वॉक के लिए निकला था, अचानक एक जंगली हाथी ने उस पर हमला कर दिया। उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

वन अधिकारी ने बताया कि सूचना मिलते ही वनकर्मी घटना स्थल पर पहुंचे और आवश्यक औपचारिकताएं पूरी कीं। एक वन अधिकारी ने कहा कि घटना की विस्तृत रिपोर्ट जल्द ही सौंपी जाएगी। रेंज अधिकारी ने मृतक के परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए छोटी-छोटी सहायता दी है। वन अधिकारी ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट व अन्य दस्तावेज मिलने के बाद पर्यावरण एवं वन विभाग द्वारा पीड़ित के परिजनों को चार लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा।


पर्यावरणविद् देवोजीत मोरन ने कहा कि "हाथियों के गलियारों पर इंसानों द्वारा घर बनाकर अतिक्रमण किया जाता है, जिससे मानव-हाथी संघर्ष होता है।" मोरन ने कहा कि वन क्षेत्र के सिकुड़ने के कारण मानव-हाथी संघर्ष बढ़ रहा है। भोजन की तलाश में हाथी जंगल से निकल आते हैं और मानव आवास में भटक जाते हैं। डिगबोई में अब तक कई लोगों को हाथी ने कुचलकर मार डाला था।