असम में कांग्रेस को मजबूत करने के लिए छत्तीसगढ़ के नेताओं को सक्रिय कर दिया गया है। वहां के बगान और कृषि कार्य में छत्तीसगढ़ के मूल निवासी काफी सक्रिय हैं। इन्हें साधने के लिए मुख्यमंत्री भी असम पहुंच चुके हैं। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोमवार को गुवाहाटी पहुंचे। असम चुनाव का समन्वयक बनाए जाने के बाद पहले दौरे पर गुवाहाटी एयरपोर्ट में असम के प्रभारी राष्ट्रीय सचिव विकास उपाध्याय ने उनका स्वागत किया।

मुख्यमंत्री बघेल असम में दो दिन लगातार चुनावी बैठकें लेंगे। विधानसभा चुनाव को लेकर रणनीति तैयार करेंगे। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव व असम के प्रभारी जितेंद्र सिंह भी इन बैठकों में शिरकत करने असम पहुंच चुके हैं।

कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव व असम प्रभारी विकास उपाध्याय पिछले दो दिनों से अपने प्रभार वाले जिलों के विधानसभाओं में ब्लाक स्तर,बूथ स्तर में बैठक कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से रूबरू हो रहे हैं। विकास उपाध्याय ने बताया कि असम के क्षेत्रफल का एक बड़ा भू- भाग ग्रामीण अंचल में आता है। जहां मुख्य व्यवसाय चाय बागान के साथ-साथ कृषि है।

इन बड़े भू-भाग में छत्तीसगढ़, ओडिशा के आदिवासी व सतनामी समाज के लोग कई दशकों से निवासरत हैं, जो किसी प्रत्याशी के हार-जीत में महत्वपूर्ण भूमिका रखते हैं। विकास उपाध्याय ने कहा कि इस लिहाज से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का असम दौरा कांग्रेस के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होगा।

कांग्रेस नेताओं का दावा है कि इन बैठकों में भारी भीड़ के साथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं में जबरदस्त उत्साह देखी जा रही है। विकास उपाध्याय ने छत्तीसगढ़ में जिस तरह से बूथ स्तर पर कांग्रेस को मजबूत करने के लिए कार्य किया था। ठीक उसी तर्ज पर असम में काम करने कांग्रेस पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को सक्रिय कर रहे हैं। इसके चलते कांग्रेस में जबरदस्त उत्साह देखी जा रही है। खास कर असम की भाजपा सरकार के खिलाफ महिलाओं की बढ़चढ़ कर हिस्सेदारी अहम हो गई है।