भारत के तेल के कुंए का तेल लेने के लिए कनाडा से स्नबिंग यूनिट कोलकाता एयरपोर्ट पर उतर चुका है। यह पूर्वोत्तर भारत के राज्य असम के तेल के कुंए का तेल लेने के लिए आए हैं। बता दें कि ऑइल इंडिया लिमिटेड (Oil) के अनुसार स्नबिंग इकाई को ऊपरी असम के तिनसुकिया जिले में सड़क मार्ग से बागवान तक पहुंचने में 14 दिन लगेंगे। बागजान ने 27 मई, 2020 को एक गैस कुआं देखा था।


Oil के प्रवक्ता त्रिदिव हजारिका ने इसके बारे में बताया कि स्नूबिंग यूनिट कोलकाता में उतरी है और बागवान तक पहुंचने में 14 दिन लगेंगे। सब कुछ नियंत्रण में है और डायवर्जन सफलतापूर्वक चल रहा है। जानकारी के लिए बता दें कि यह उपकरण, 59,000 किलोग्राम वजन वाला है जो कि रूस के An124 हैवी-लिफ्ट विमान में सवार हो कर आया है। An124 (ANTONOV) विमान दुनिया का सबसे बड़ा नागरिक परिवहन विमान और सबसे भारी विमान है।


ओएनजीसी के सूत्रों जानकारी दी है कि स्नबिंग यूनिट को बागवान तक पहुंचने में लगभग 14 दिन लगेंगे क्योंकि ट्रेलर केवल रात के दौरान ही सफल करेगा। 13 सितंबर को, OIL बागवान अर्ली प्रोडक्शन सिस्टम (EPS) के लिए ब्लोआउट कुएं से गैस के डायवर्जन की बहाली में सफल रहा और दो भड़काने वाले गड्ढों को भी नियंत्रण में ले लिया गया है। हालात अभी ठीक हैं इसी वजह से स्नबिंग यूनिट को बागवान तक लाया जा रहा है।